IMAGE1
आज बसंत बहार है।
जीवन का त्यौहार है।

 सुशील कुमार शर्मा रचनाकार परिचय:-



सुशील कुमार शर्मा व्यवहारिक भूगर्भ शास्त्र और अंग्रेजी साहित्य में परास्नातक हैं। इसके साथ ही आपने बी.एड. की उपाध‍ि भी प्राप्त की है। आप वर्तमान में शासकीय आदर्श उच्च माध्य विद्यालय, गाडरवारा, मध्य प्रदेश में वरिष्ठ अध्यापक (अंग्रेजी) के पद पर कार्यरत हैं। आप सामाजिक एवं वैज्ञानिक मुद्दों पर चिंतन करने वाले लेखक के रूप में भी जाने जाते हैं तथा अापकी रचनाएं समय-समय पर विभ‍िन्न पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाश‍ित होती रही हैं।इनके करीब 60 लेख विभिन्न वेबसाइट पर प्रकाशित हो चुके हैं | आपसे सुशील कुमार शर्मा (वरिष्ठ अध्यापक), कोचर कॉलोनी, तपोवन स्कूल के पास, गाडरवारा, जिला-नरसिंहपुर, पिन -487551 (MP) के पते पर सम्पर्क किया जा सकता है

यह त्यौहार है।
त्याग ,तप संकल्प का।
अज्ञानता के विकल्प का।
मन की तरंग का।
ज्ञान की उमंग का।
बुद्धि की स्फूर्ति का।
विद्या की पूर्ती का।
प्रेम की झंकार का
प्रकृति के प्यार का।
विद्वानों के सम्मान का।
धनवानों के मान का।
विद्या से पुष्टि का।
अटूट अमित भक्ति का।
बीणा के सम्मोहन का।
अनुरागों के अनुमोदन का।
मिलन का मुक्ति का।
सृजन का सृष्टि का।
जीवन के परिवर्तन का।
मनुष्यता के आवर्धन का।
उमंगों का उल्लासों का।
प्यार के प्रयासों का।
सौंदर्य के सन्दर्भों का।
यक्षों का गंधर्बो का ।
फूलों का सुगंधों का
स्नेह के प्रबंधों का।
खुश्बुओं को सजोने का।
स्वप्न के बिछौनों का।
बेटियों को मनाने का।
बेटों को सिखाने का।
माँ के सुकून का।
पिता के जूनून का।
दुश्मनी से दूरी का।
मित्रता जरूरी का।
पशुता से हटने का।
मनुष्यता पर डटने का।
प्यारे संबंधों का।
मन के आबंधों का।
चलो कुछ इस तरह से यह त्यौहार मनाएं।
जीवन में नए आदर्शों को अपनाएँ।

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget