IMAGE1
खाली हो गया आंसुओं से
मेरी आँखों का पैमाना.
नहीं रहा अब मेरी गलियों में
तेरा आना जाना.


 शिव कुमार यादव रचनाकार परिचय:-



शिव कुमार यादव
डी. 170 – आर.एम.एस.कालोनी
टैगोर नगर / रायपुर / छत्तीसगढ़
मोबाईल- 09407625051

कौन बेरहम है, कह नहीं सकता
वक्त या वक्त का फ़साना.
लुट गया जज्बातों का मेला
नहीं रहा अब कोई बहाना,

बदलते मौसम से बदल गए
तेरी आरजू, तेरा ख़याल.
नहीं रहा अब, मेरे नाम से
तेरे गालों में वो गुलाल,

दफ़न हो गया सपनो का
सजना – सजाना..

xxxxxxxxxxxxxxxxxx

2 comments:

  1. कौन बेरहम है, कह नहीं सकता
    वक्त या वक्त का फ़साना.
    अच्छी कविता....

    उत्तर देंहटाएं
  2. फेसबुक पर

    13
    Close

    Add Friend
    Rishikesh Khodke
    4 mutual friends

    Add Friend
    Rakesh Chandra Sharma
    26 mutual friends

    Add Friend
    Amit Verma
    2 mutual friends

    Add Friend
    अवनीश तिवारी
    9 mutual friends

    Add Friend
    Sudhir Jain Journalist
    2 mutual friends

    Add Friend
    Manju Jha
    1 mutual friend

    Add Friend
    Aditya Singh
    2 mutual friends

    Add Friend
    Nilima Mishra
    1 mutual friend

    Add Friend
    Om Soni
    4 mutual friends

    Add Friend
    Nitin Sinha
    2 mutual friends

    Add Friend
    Nuzhat Nausheen Khan
    1 mutual friend

    Add Friend
    Rajeev Ranjan Srivastava
    12 mutual friends

    Add Friend
    Archna Srivastava
    1 mutual friend

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget