IMAGE1





 वर्षा ठाकुर रचनाकार परिचय:-







नाम : वर्षा ठाकुर
शिक्षा: बी ई (इलेक्ट्रिकल)
पेशा: पी एस यू कंपनी में अधिकारी
मेरा ब्लौग: http://varsha-proudtobeindian.blogspot.in



तुम बसंत हो
तुम तब आते हो
जब लू के थपेड़ों से
तपकर सिकी
रिमझिम लड़ियों से
सीली पड़ी
तूफाँ के तेवर से
थर थर हिली
थककर गिरी
औंधी पड़ी
एक जीवन की लौ
अपने होने की वजह
तलाशने लगती है।
तुम आते हो
हाथ थाम,
उसे उठाते हो
कुछ उसकी सुनते हो
कुछ अपनी बताते हो।
सीलनों को हवा देकर
जख्मों को दवा देकर
ऋतु के अगले चक्र के
काबिल बनाते हो,
फिर मिलने का
वास्ता देकर
चले जाते हो
कुछ सुस्ताने के लिए
फिर लौट आने के लिये
जीवन को, जीने की
वजहें बताने के लिये।



6 comments:

  1. वर्षा जी, आपकी बसंत ये कविता बहोत अच्छी लगी.
    keep it up .....................

    उत्तर देंहटाएं
  2. बसंत का आना जिंदगी में बहार का आना है

    बहुत सुन्दर प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  3. रमेश कुमार20 अप्रैल 2016 को 10:08 am

    बसंत की अच्छी चित्रण ...

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget