IMAGE1



सुबोध श्रीवास्तवरचनाकार परिचय:-


सुबोध श्रीवास्तव
जन्म: 4 सितम्बर, 1966 (कानपुर)
शिक्षा: परास्नातक
व्यवसाय: पत्रकारिता (वर्ष 1986 से)। 'दैनिक भास्कर', 'स्वतंत्र भारत' (कानपुर/लखनऊ) आदि में विभिन्न पदों पर कार्य।
विधाएं: नई कविता, गीत, गजल, दोहे, मुक्तक, कहानी, व्यंग्य, निबंध, रिपोर्ताज और बाल साहित्य। रचनाएं देश-विदेश की प्रतिष्ठित पत्र-पत्रिकाओं,प्रमुख अंतरजाल पत्रिकाओं में प्रकाशित। दूरदर्शन/आकाशवाणी से प्रसारण भी।
प्रकाशित कृतियां:
-'पीढ़ी का दर्द' (काव्य संग्रह)
-'सरहदें' (काव्य संग्रह)
-'ईष्र्या' (लघुकथा संग्रह)
-'शेरनी मां' (बाल कथा संग्रह)
-‘कविता अनवरत-2’, ‘कानपुर के समकालीन कवि’ सहित कई काव्य संकलनों में रचनाएँ संकलित।
-विशेष: काव्यकृति 'पीढ़ी का दर्द' के लिए उत्तर प्रदेश हिन्दी संस्थान द्वारा पुरस्कृत।
-साहित्य/पत्रकारिता के क्षेत्र में उल्लेखनीय योगदान के लिए भारतीय दलित साहित्य अकादमी द्वारा 'गणेश शंकर विद्यार्थी अतिविशिष्ट सम्मान'।
-कई अन्य संस्थाओं से भी सम्मानित।
संपादन: 'काव्ययुग' ई-पत्रिका
संप्रति: 'आज' (हिन्दी दैनिक), कानपुर में कार्यरत।
संपर्क: 'माडर्न विला',10/518, खलासी लाइन्स, कानपुर (उ.प्र.)-208001, उत्तर प्रदेश (भारत)।
मोबाइल: 09305540745/9839364419
फेसबुक:www.facebook.com/subodhsrivastava85
ट्विटर:www.twitter.com/subodhsrivasta3
ई-मेल: subodhsrivastava85@yahoo.in



लौट भले ही आया हूं
मैं/लेकिन
हारा अब भी नहीं
न ही कमज़ोर पड़ा है
लक्ष्य तक पहुंचने का
मेरा इरादा|
हां, मैं पराजित नहीं हूं
पीछे लौटना-
शिकस्त का प्रतीक
होता भी नहीं/हर बार
विजय की शुरुआत भी हो सकता है।
मैं लौट भले ही आया था
लेकिन
मेरे भीतर संचित है अब
लक्ष्य प्राप्ति की ललक,
आत्मबल और विश्वास
पहले से भी ज्यादा,
साथ ही
न चूकने का सबक भी।
देखना-
मैं विजयी होऊंगा,
मैं विजयी हो भी रहा हूं
और/लो
विजयी हो गया मैं..!
----



4 comments:

  1. बहुत खूब . ये प्रक्रिया अनवरत रहनी चाहिए। ..

    उत्तर देंहटाएं
  2. रमेश कुमार23 मई 2016 को 12:20 pm

    हार कर जीतने वाले को ही बाज़ीगर कहते है....सुबोध बाबू....अच्छी रचना

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आभार रमेश कुमार जी उत्साहवर्धन के लिए..

      हटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget