यह बताते हुए प्रसन्नता हो रही है कि द्वितीय “मिनीमाता फाउंडेशन सम्मान 2016” साहित्य शिल्पी के राजीव रंजन प्रसाद जी को उनके उपन्यास 'आमचो बस्तर’ पर दिया जा रहा है। यह सम्मान पीडित मानवता के लिए समर्पित, कई भाषाओं की ज्ञाता, देश की प्रथम लोकसभा की सदस्या ममतामयी मिनीमाता जी की स्मृति में मिनीमाता फाउंडेशन, छत्तीसगढ़ रायपुर द्वारा प्रारंभ किया गया है। उन्हे यह सम्मान सृजन गाथा डॉट कॉम के संयोजन में आयोजित 12 वें अंतराष्ट्रीय हिंदी सम्मलेन (असम-शिलांग 21 मई-30 मई) में प्रदान किया जायेगा।

राजीव रंजन प्रसाद जी विद्वान चयन समिति ( ख्यात कथाकार तेजिन्दर, वरिष्ठ समीक्षक डॉ. सुशील त्रिवेदी, वरिष्ठ संपादक श्री गिरीश पंकज, मिनीमाता फाउंडेशन के निदेशक श्री रामशरण टंडन, जयप्रकाश मानस ) की अनुशंसा के शब्दों से उत्साहित है जिसके अनुसार – “आमचो बस्तर’ मुख्यधारा से कटे-टूटे बस्तर के उन आदिम वनपुत्रों की दुर्निवार पीड़ा का जीवंत इतिहास है जो अपनी ही धरती, पानी, हवा और आकाश के मध्य आज निसहाय संघर्षरत हैं । यह हिंदी में विचारधाराओं के द्वंद्व के मध्य आदिवासियों की मूल और मानववादी आवाज़ की पूरज़ोर वकालत करने वाला महत्वपूर्ण उपन्यास है ।’’

1 comments:

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget