IMAGE1


 शामिख फ़राज़  रचनाकार परिचय:-


नाम-- शामिख फ़राज़
जन्मतिथि व जन्मस्थान-- 24.02.1987 को उत्तर प्रदेश के पीलीभीत जिले में.
शिक्षा-- यू० पी० टेक्नीकल यूनिवर्सिटी से मास्टर ऑफ़ कंप्यूटर ऍप्लिकेशन, उत्तराखंड टेक्नीकल यूनिवर्सिटी से मास्टर ऑफ़ टेक्नोलोजी में अध्यनरत .
साहित्य के अतिरिक्त रुचियाँ-- दर्शन शास्त्र, आत्मकथाएं पढ़ना, ऐतिहासिक नगरों को घूमना।
पसंदीदा कवि-- डॉ. इकबाल, गुलज़ार, अहमद फ़राज़, साहिर लुध्यान्वी .
आदर्श-- डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम.

मुझे वैज्ञानिक सोच के पिता और धार्मिक स्वभाव की माँ से अच्छा
व्यवहारिक ज्ञान मिला. मैंने अपने लेखन कि शुरुआत वर्ष 2002 से की थी .मेरा मानना है कि "Writting is not a profession but it is the vocation of unhappiness"




1. " तुम"

दिल के कमरे में बैठ कर
प्यार का स्वेटर बुनते हुए
जब तुम्हारी तस्वीर उभर आती है
कुछ यूँ अतीत के आसमान से गिर
तुम्हारी यादों की फुहार
मुझे भिगो जाती है.


2. "कुछ इस अंदाज़ में "


जब जब तुम्हें दुनिया से
चुराने का ख्याल आया है
जब जब तुम्हें ख़ुद में
बसाने का ख्याल आया है
तब तब मैंने रची एक कविता
जिसके चौपाई और छंदों से
तुम्हारी ही महक आती है
जिसकी लए और तुकों से
तुम्हारी ही महक आती है
कुछ इस अंदाज़ में तुम्हें
दुनिया से चुराया है मैंने
कुछ इस अंदाज़ में तुम्हें
ख़ुद में बसाया है मैंने.



3 comments:

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget