एक हाथ से ट्राली बैग को खींचते हुए और दूसरे हाथ में हाथ से सिले बैग को लिए कदम दर कदम आगे घसीटता बढ़ता जा रहा था।पास ही स्टेशन से ट्रेन अब सीटी की आवाज़ और ईंधन से निकलते धुएं को यहां छोड़ती हुई आगे बढ़ चली थी।मैं शहर को कहीं पीछे छोड़ता हुआ गांव की ओर बढ़ रहा था।काठ से बने पुल पर लम्बे और घने पेड़ों से आ रही छांव मेरे इस सफर का शायद अन्तिम बेहतरीन पडाव होगा।यहां का मौसम पल पल में बदल रहा था।

पेड़ों पर बैठे पक्षियों का कलरव और इस पुल के नीचे बहती नहर के जल से उत्पन्न ध्वनि बहुत मधुर थी।बायीं कलाई पर बंधी घड़ी को आंखो के करीब लाते हुए टाईम देखा पर यकीनन मेरी चाल अब पहले से धीमी पड़ती जा रही थी। मौसम भी गर्म और थकाने वाला होता जा रहा था ।टाईम साढ़े तीन बजे का था बरसात के बाद की धूप घनी और चुभने वाली सी थी।मैं किसी तरह उस घर के पास पहुंच गया जो मेरा गन्तव्य था। कितने सालो बाद यूं सुनयना मुझे याद करेगी और मुझे मिलने को बुलायगी।

सब अजीब सा लगरहा था पर यहां अनोखी आत्मीयता सी झलक रही थी।तभी तो मैं पुराने दिनों को स्मरण करते हुए झट से दौड़ पड़ा इस दूसरे शहर में जहां सुनयना आज तक उन्ही स्मृतियों में जिन्दा थी मैं एक पल में मिलने को दौड़ पड़ा था।मैं गुमसुम उस घर के सामने पहुंच गया जहां अब वो रहती है।बाहर गेट पर लगी बैल को कई बार बजाने पर भी कोई प्रतिक्रिया नहीं हुई।फिर मैने अपने हाथ से दरवाजे पर चोट करते हुए कुछ आहट की। दरवाजे में बने एक सुराख में झांकने पर एक धुंधली आकृति जो गैलरी से होती हुई दरवाजा खोल साक्षात हुई।
शैलेश ने आखों पर से चश्मा हटाकर उसे साफ करते हुए सामने की ओर काफी दूर देखते हुए एक आकृति को करीब आते हुए देखा ।जैसे जैसे ये चेहरा पास पास आता रहा ह्दय गति तेज होने लगी।लगा कि ये सुनयना होगी पर  हां ये  सुनयना ही थी किन्तु अब वो चेहरा परिपक्व हो चुका है आंखों के नीचे गहरे काले निशान और बालों में भी सफेदी आ चुकी है मैंने पुनः चश्मे को आखों पर लगा कुछ बोलना चाहा पर मेरे बोलने से पहले ही उसने प्रश्न पूछने की सी तरह मुझसे बोली आर यू मि.शैलेश ।उसे देखते ही मैं उन्ही पुराने दिनों में खोता चला गया जिनसे मैं चाहकर भी नहीं निकल सका था कभी।मुझे बैठने के लिए कहा पर कुछ ही देर में जलपान के बाद आरामकुर्सी पर बैठते ही मेरी आंख सी लग गयी।मै डायरी के उन्हीं पन्नों में लौट गया जो बीते सालों में खींच ले गये।बात उन दिनों की थी जब मैंने नौकरी शुरू की ही थी।क्या थे मेरे ऑफिस के वो शुरूआती दिन जब ऑफिस में दिन के दो बज चुके थे।उस दिन मौसम बेहद ठंडा था तभी तो ऑफिस के अन्दर भी बाहर की सी ठंड है।शैलेश ने एक पुराने रजिस्टर पर से नज़रे हटाते हुए सामने खुली खिडकी पर डाली ।आकाश में बादलों का एक बड़ा पहाड़ लगातार आकार बदल बदल कर इधर ही ताक रहा था।कहीं बीच बीच में पंछियों की लम्बी कतार इधर से उधर आकाश को चीरते जा रहे थी।आधा ऑफिस अभी भी लंच से लौटा नहीं इक्का दुक्का लोग अपनी सीटों पर सुस्ता रहे हैं।अभी भी वहां पहुचने में जिसके लिए मैं बेहद अधीर हुए जा रहा था वहां पहुंचने में अभी  दो ढाई घंटे है पर सूबह से ही न जाने कितने दफ़ा टाइम देखा जा चुका है।शैलेश ने मिलने के चक्कर में न कुछ खाया और न ही कुछ खास काम किया आज बल्कि सूबह से रिपोर्टिंग हैड मिस्टर माथूर  के पास कई बार जा चुका है ये बताने कि उसे चार बजे निकलना है पर माथूर साहब भी चुटकियां लेने में कम न थे और कह देते कि ठीक है पर जल्दी क्या है भाई चार तो बजने दो।यही नही उन्होने ऑफिस की दूसरी ब्रांच जो दूसरे शाहर मे यहां से दूर थी ट्रांसफर के लिए पूछ चुके थे।ये सुन शैलेश कई बार खीझ जाता।

ऑफिस के सभी लोग अपनी अपनी सीट पर अपने काम कर रहे थे पर शैलेश का दिल दिमाग कहीं और ही है।सामने पिंक सूट में बैठी मिसेज कुलकर्णी भी कई बार जल्दी जाने का सवब पूछ चुकी थी और शैलेश कहीं और ही किसी दुनिया में खोया हुआ था।रह रह कर वही बाते उसे विचलित कर रही थी जो पिछले चार सालों से उसके साथ थी कैसा था वो दिन तीन साल पहले जब उस दिन मेहता एंड संस को फोन करना था पर नंबर नहीं मिल रहा था।उसी दिन परेशानी में न जाने कितने अंजान नंबरस पर फोन लगा दिया था। उसे क्या पता था कि इन्हीं अंजान नंबरों में ही कहीं मेरी जिंदगी भी होगी।उस दिन शैलेश ने टेलिफोन ड्रारेक्टरी से देख एक नंबर लगाया था पर ग़लत नंबर कहकर दूसरी तरफ से फोन काट दिया था ।समय बीतता चला था पर एक नंबर जो कभी किसी रोज मिला था लगा जैसे कोई राह ही देख रहा था।और एक दिन जब फिर से नोटपैड पर लिखे नम्बर को डायल कर दिया।इस बार फोन का रिसीवर उठाया गया पर दूसरी ओर से केवल एक शांत सी  प्रतिक्रिया थी पर उस चुप्पी में भी गहरी आत्मियता सी थी जो उस ओर खींच रही थी।सामने गर्द से भरा टेवल पर थोड़ी देर पहले चाय पीये गये कप प्लेट के निशान बन चुके थे।बीच बीच में खिड़की के पर्दे हवा के ज़ोर से आगे पीछे की ओर लहरा रहे थे।

उस दिन न जाने क्यों ऐसा लगा था कि दूसरी ओर सुनयना होगी पर शायद वो सुनयना ही थी। उसके बाद तो उस नंबर पर फोन मिलाना अब ङेल्ही रूटीन्स ही हो गया था।न जाने क्यों फोन के दूसरी तरफ के चेहरे को जानने की इच्छा प्रबल होती गयी और एक दिन शांति को चीरती वो आवाज कानों तक पहुंच ही गयी। माता पिता का साया तो बचपन से ही उठ  गया था  बुआ ने ही उसे जीने लायक बनाया था किन्तु फिर भी वो सदा दया,कृपा,हीन और ईर्ष्या का पात्र रहा था। मुफलिसी के रहते वो इंटर तक ही पढाई कर सका था।

सफेदी से पुती दीवार जिस पर एक कलैंडर लगा है और जिसपर तारीखे नित्य बढती जा रही थी कुछ तारीखों पर सर्कल किये हुए थे जिनपर नीले लाल और अन्य रंगों से कुछ निशान या इंगलिश में लिखे कुछ शब्द थे पर इन सबका क्या मतलब होगा मुझे अभी तक नहीं पता चला था।नित्य कोई न कोई तारीख किसी गोले में रंगीन होती रहती थी।आसमान मे भी आज कई रंग थे कहीं सफेद तो कहीं नीला पर दूर क्षितिज अब स्याह नारंगी सा हो चला था।अब वो नंबर रटा जा चुका था।

आज शैलेश ने हिम्मत करके सामने वाली आवाज से उसका नाम पूछ ही लिया। यद्यपि पहले तो सुनयना ने टालने की कोशिश की पर काफी आग्रह और थोड़ी ज़िरह के बाद सुनयना ने अपना परिचय दे ही दिया ।थोड़े ही दिनों में अब शैलेश सुनयना दोनों काफी घुल मिल गये ।

दिन बीतने लगे थे अभी तक मिले नहीं थे वो,उन दोनों का दिनोदिन लगाव बढता ही जा रहा था और उन दोनों ने एक दूसरे से कसम ली कि वे दोनों कभी भी रूबरू नहीं होंगे।दिल जुड़ चुके थे अब वो सुख दुख के साथी बन चुके थे।आकाश में मस्त पंछियों की भांति वो कलरव करते थे।पर शैलेश ने कभी भी अपनी अपंगता के बारे में ज़िक्र नहीं किया ।सूबह शाम दिन रात बस वो दोनों एक दूसरे के ख्यालों में रहते थे यहां तक कि रविवार छुट्टी के दिन भी पब्लिक काल से काल कर लेते थे।पर कभी भी पसन्द नापसन्द और प्रेम के अलावा उन्होने कभी कोई बात न की ।सब दिन एक से लगने लगे थे और वो दोनों मजे मजे जिन्दगी बसर कर रहे थे। दिल दिमाग पर हावी होने लगा था।प्रेम के मध्य जरूरते बढने लगी थी केवल फोन के सहारे ही ज़िन्दगी निकालना अब भारी लगने लगा था ।ये जिंन्दगी यथार्थ होते हुए भी कल्पना से भरी पूरी थी।पर शैलेश को ये हमेशा लगता कि उसकी सच्चाई को जानते ही सब खत्म हो जाएगा।पर सुनयना के प्रेम पर कभी कोई शुवहा नहीं हुआ।ये पता था कि दोनो बहुत निर्धन है पर ऐसी छोटी सी जाॅव से ही दोनों के घर चल रहे थे।शैलेश ने एक दिन इधर उधर की बाते करने के बाद उसे देखने की इच्छा ज़ाहिर की पर सुनयना ने न केवल मिलने के लिए मना किया बल्कि फिर कभी ऐसा न करने के लिए कहा।पर ये कमबख्त दिल था कि हर थोड़े दिनों में मिलने की चाह रखता था हालांकि दिल में बहुत उथल पुथल होती थी पर एक नज़र देखने की उत्सुकता दिनोदिन बढ़ती ही जा रही थी।

शनिवार का दिन था घर से निकलते हुए बैसाखी को थामते हुए अपने मौहल्ले से धीरे धीरे निकल रहा था।ज्यादा काम न होते हुए भी बह व्यस्त सा दिख रहा था दफ्तर पहुचते ही उसने सुनयना को काॅल किया पर आज दोनों तरफ एक अजीब सा भय था जैसे कोई गहरा राज खुलने के डर से अपराधी के चेहरे पर दिखाई देता है।शैलेश का गला भरा हुआ था और सुनयना भी बीच बीच हिचकिया ले रही थी।चार बजे डाबर लि.के ऑफिस का पता पूछते हुए जहां सुनयना जाॅव करती थी

शैलेश सीढियों के दीवारों का सहारा लिये ऑफिस के नीचे खड़ा था।शनिवार होने के कारण लोग ऑफिसस से बाहर की ओर निकल रहे थे।आसमान साफ सा था पर कुछ बड़े बादल छोटे बादलों को अपने में समेटे जे रहे थे।बीच बीच में बहते समीर से सामने खड़े दरख्त झूल रहे थे।शैलेश वहीं खड़ा इंतजार करने लगा ।साढ़े चार बज चुके पर अब तक सुनयना अपनी फ्लोर से नीचे नहीं आई थी।बहुत देर इन्तजार के बाद शैलेश सीढियो के सहारे बैसाखी थामे ऊपर फ्लोर की तरफ बढ़ने लगा।इस मंजिल पर वीरानगी छाई हुई थी।दायी तरफ मुड़ते  हुए एक एक कदम टेकता शैलेश आगे बढ़ता जा रहा था।बैसाखियों के सहारे चलने की आहट से सन्नाटे में यह आवाज गूंज रही  थी।दूसरी ओर दीवार की ओट में बैठी सुनयना अजीबोगरीब कश्मकश में स्वयं को पा रही थी
छत पर घुमते पंखे की हवा में भी वो पसीने से लथपथ थी।वो समझ नहीं पा रही थी कि उसने मिलने की अनुमति देकर कुछ ग़लत तो नहीं किया।अपने ही अन्दर पल भर में सैकड़ो ख्यालों को टूटते बनते देख रही थी।भयभीत आंखों और छटपटाते ह्रदय को स्वयं में समेटे सामने की ओर एकटक देखे जा रही थी।इधर अपनी ही परछाइयों का पीछा करता शैलेश बस करीब ही था ।तेज आंधी और बरसात के आने के पूर्व का सा मौसम यहां उमडता जा रहा था।शैलेश ने सामने मेज की और बढ़ते हुए सुनयना सुनयना दो एक बार आवाज दी सुनयना ने चौकते हुए शैलेश की ओर मुंह़ किया पर पर वो शून्य थी और कपकपा रही थी उसने कोई जवाब नहीं दिया।केई प्रतिक्रिया न पाकर और ऐसे बर्ताव को देख शैलेश को लगा कि उसकी अपंगता के विषय में सुनयना ने सब देख भांप लिया इसी से उसकी प्रतिक्रिया ऐसी है।सुनयना निरूत्तर सी बस अचेतन बैठी है।शैलेश ने कई मर्तवा फिर पुकारा पर सुनयना की आंखे रो दी और असंख्य चीखों को स्वयं में संभाले भरे गले से बोली आपको यहां नहीं आना चाहिए था मैं आपके सामने हाथ जोड़ती हूं यहां से चले जाइए।शैलेश अपनी असहज स्थिति और बेबसी को संभालते हुए पुनः सुनयना की ओर देखता रहा।पर सुनयना का उसकी ओर इस तरह एकटक देखे जाना और बस रोते जाने का सबब जानने को वेचैन था।

शैलेश एक हारे यौद्धा की भांति लौट जाने को अब तैयार था उसे अपनी स्थिति पर स्वयं क्रोध,ईर्ष्या,दया के भाव पल पल में स्वचलित होते दिख रहे थे।ऊधर सुनयना की लगातार रोती आंखे बहुत कुछ कह रही थी वो बात जो आजतक कभी उसकी जुबां तक नहीं आई थी वो होठों तक आते आते हमेशा कहीं अन्दर ही दब जाती थी ।पर अब जैसे ही शैलेश उदास मन से लौट रहा था तभी उसने भरे मन से कहा शैलेश मैं तुम्हारे काबिल नहीं ।शैलेश ने करूण स्वरों में आंखों में वेदना लिए सुनयना से कहा एक बार मेरी आंखों में झांककर तो देखों और मेरे प्रेम को देखो। सुनयना ने दुखी ह्रदय से शैलेश को कहा आपको दिल की नजरो से ही देख सकती हूं तुम्हे साक्षात देखने के लिए मुझे दो आंखे चाहिए  पर मेरे पास तो तुम्हें देखने के लिए आंखे ही नहीं है मैं अंधी हूं शैलेश मैं तुम्हे नहीं देख सकती हूं , हां !मैं तुम्हे नहीं देख सकती ।मैं तुम्हे धोखे में रखा और इससे ज्यादा नहीं रख सकती।तुम चले जाओ अब भगवान के लिए चले जाओ  ।शैलेश हतप्रभ सा खड़ा सुनयना के चेहरे की ओर देखता रहा और अपनी बैसाखी को संभालते हुए कहने लगा सुनयना तुम भी एक सच्चाई को जिसे सालों से तुमसे छिपाया हुआ है सुनो मैं भी एक अपंग और लाचार इंसान हूं मेरी दोनों टांगे नहीं है ।शैलेश अब स्वयं को संभाल नहीं पा रहा था वो सारे अरमानों पर बज्रपात होते देख रोते हुए लौटने लगा उसकी अपनी ज़िन्दगी उसका साथ छोडे जा रही थी वह सामने की ओर खुद को घसीटता हुआ चलते हुए उसकी रूंदी जुबां से यही निकल रहा था कि अब सब खत्म हो चला सब सुनयना भी औरो सी निकली मेरे दिल मेरे जज्बातों को नहीं समझ सकी और धीरे धीरे कदम टेकता कुछ ही देर में वहां औझल हो गया ।अब दोनों ओर अन्दर बाहर इधर सुनयना सुबकिये लिए तभी से ही रोये जा रही थी उसे नहीं पता था कि उसने ग़लत किया या ठीक पर उसे इतने आभास हो रहा था कि दोनों ओर हजारों ह्रदयों पर एक साथ आघात हुआ है।वो हाड मांस की मूर्ति सी हो गयी थी मानो जिन्दगी भर का सरमाया एक ही कठोराघात में खो दिया हो। शैलेश रात भर स्वयं को कोसता रहा और सूबह उठते उठते निर्णय ले लिया कि वो अब यहां नहीं रहेगा ।पर उसे नहीं पता था कि कहां जाना है उसे ।वह सूबह जल्दी दफ्तर पहुंच गया ।आज उसको सारी आवोहवा अलग सी लग रही थी ।उसे यहां एक एक पल भारी लग रहा था ।मिस्टर माथुर के आते ही शैलेश ने आगे बढ़कर दूसरे शहर में भेजने वाले ऑफर को  बिना शर्तों के हां कर दी ।और वो जल्द ही वहां चला गया ।और फिर कभी नहीं लौटा।

2 comments:

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget