आकुल रचनाकार परिचय:-

आकुल, कोटा


दीप जलाए हैं जब-जब
छँट गए अँधेरे।

अवसर की चौखट पर
खुशियाँ सदा मनाएँ
नई-नई आशाओं के
नवदीप जलाएँ
हाथ धरे बैठे
ढहते हैं स्‍वर्ण घरोंदे
सौरभ के पदचिह्नों पर
जीवन महकाएँ।

क़दम बढ़ाये हैं जब-जब
छँट गए अँधेरे।

जयघोषों के सँग-सँग
आहुति देते जाएँ
यज्ञ रहे प्रज्‍ज्‍वलित
सिद्ध हों सभी ऋचाएँ
पथभ्रष्‍टों की उन्‍नति के
प्रतिमान छलावे
कर्मक्षेत्र मे जगती रहतीं
सभी दिशाएँ।

ध्‍येय बनाए हैं जब-जब
छँट गए अँधेरे।

आतिशबाजी से मन के
मनुहार जताएँ
घर-घर ड्योढ़ी
दीपाधार सजाऍं
भाग्‍य बुझाएँ
अँधेरे सूने रहते स्‍वप्‍न
फुलझड़ि‍यों से
गलियों में गुलज़ार सजाएँ।

हाथ मिलाए हैं जब-जब
छँट गए अँधेरे।

मनमाला में गोखरु
मनके नहीं पिरोएँ
गढ़ कंगूरों में
संगीने नहीं पिरोएँ
पतझड़ के मौसम में
शिकवा क्‍या फूलों से
गुंजा की माला में
तुलसी नहीं पिरोएँ।

दर्प गलाए हैं जब-जब
छँट गए अँधेरे।

1 comments:

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget