IMAGE1
लड़कपन खेल में खोया, जवानी नींद भर सोया
बुढ़ापा देखकर रोया, वही किस्सा पुराना है ................
सजन रे झूठ मत बोलो, खुदा के पास जाना है ........




 महावीर उत्तरांचली रचनाकार परिचय:-



१. पूरा नाम : महावीर उत्तरांचली
२. उपनाम : "उत्तरांचली"
३. २४ जुलाई १९७१
४. जन्मस्थान : दिल्ली
५. (1.) आग का दरिया (ग़ज़ल संग्रह, २००९) अमृत प्रकाशन से। (2.) तीन पीढ़ियां : तीन कथाकार (कथा संग्रह में प्रेमचंद, मोहन राकेश और महावीर उत्तरांचली की ४ — ४ कहानियां; संपादक : सुरंजन, २००७) मगध प्रकाशन से। (3.) आग यह बदलाव की (ग़ज़ल संग्रह, २०१३) उत्तरांचली साहित्य संस्थान से। (4.) मन में नाचे मोर है (जनक छंद, २०१३) उत्तरांचली साहित्य संस्थान से।

रेडियो पर फ़िल्मी गीत बज रहा था। उम्र की ढलान पर बैठे साठ वर्षीय रामेश्वर ने इन बोलों को ध्यान से सुना और दोहराने लगा। बग़ल में बैठा उसका पैंतीस वर्षीय जवान बेटा मोहन, बाबुजी के मुखारबिंद से यह गीत सुनकर मुस्कुरा दिया। वह अपने पांच वर्षीय बेटे गोलू के साथ खेलने में व्यस्त था।

"बेटा मोहन, विधाता ने जीवन भी क्या ख़ूब रचा है? बचपन, जवानी और वृद्धावस्था का ये खेल सदियों से चला आ रहा है। मृत्युबोध का अहसास जितना इस उम्र में सताता है, उतना बचपन और जवानी में नहीं। लगता है दिया अब बुझा या तब बुझा।" रामेश्वर प्रसाद के स्वर में पर्याप्त दार्शनिकता का पुट था।

"सब कुछ नाशवान है पिताजी, मौत के लिए उम्र क्या? उसके लिए तो बुढा, जवान, बालक सब एक समान है।" मोहन ने गंभीरतापूर्वक कहा।

"ये बात नहीं है बेटा, मेरे कहने का अभिप्राय यह था कि लड़कपन हम खेल में खो देते हैं, जो कि ज्ञान प्राप्त करने की उम्र होती है, क्योंकि इस उम्र में न तो कमाने की चिंता होती है, न भविष्य बनाने की फ़िक्र। धीरे-धीरे जवानी की दहलीज़ में आकर यह अहसास होता है कि वह समय कितना अनमोल था। फिर युवावस्था में हम मोहमाया के जंजाल में फंसे रहते हैं तथा जवानी के मद में खोये-खोये रहते हैं। जबकि सार्थक कार्यों को करने की उम्र होती है

यह। घर-परिवार की जिम्मेदारियां, रोज़गार की चिन्ता-फ़िक्र, हर किसी को निगल जाती है, और आदमी खुद का कमाया भी, खुद पर ख़र्च नहीं कर पाता।" रामेश्वर ने व्याकुल होकर कहा, "तुमने प्रेमचन्द की कहानी 'बूढी काकी' पढ़ी थी न?" रामेश्वर के कथन पर मोहन ने 'हाँ' में सर हिला दिया, "कई बूढों की हालत तो इससे भी गई गुज़री है।"

"पिताजी आप भी व्यर्थ की क्या-क्या कल्पनाएँ करते रहते हैं!" मोहन ने मुस्कान बिखेरी, "आपको हमसे कोई कष्ट है क्या? मैंने या सुशीला ने कभी कुछ कहा आपसे?"

"नहीं बेटा ... इस मामले में तो मैं बड़ा भाग्यवान हूँ तुम्हारी तो राम-सीता की जोड़ी है, मुझे तो कष्ट केवल बुढ़ापे से है। शरीर रोगों का घर हो जाता है, हर तरह की बीमारियाँ बढ़ जाती हैं -- उच्च रक्तचाप, हृदय रोग तो आम बात है, ज़्यादा खा लो, तो दिक्कत। कुछ पी लो, तो मुसीबत। लिखने वाला आदमी, लिखने के लायक नहीं रहता, उंगलियाँ काँपने लगती हैं। दिमाग़ सोचना बंद कर देता है। हाय! कमबख्त बुढ़ापा! हाय! किसी कवि ने क्या खूब कहा है -- फिर जाकर न आई, वो जवानी देखी, आकर न गया वो बुढ़ापा देखा।"

"आख़िर क्या बात है पिताश्री, आज आप इतना उपदेश क्यों दे रहे हैं!" मोहन ने गोलू को गोदी में बिठाते हुए कहा।

"कुछ नहीं बेटा, मन की परतों में कुछ बातों की काई जमी थी, सो तुमसे बाँट ली।" रामेश्वर ने पुत्र की निर्मूल शंका का समाधान करते हुए कहा, "आज तो क्रिकेट मैच है। रेडियो बंद करके टी०वी० तो लगा ज़रा ... काफ़ी दिनों से सचिन की बैटिंग नहीं देखी ..." कहकर रामेश्वर जिन्दादिली से हंस दिए।

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget