रचनाकाररचनाकार परिचय:-

नाम - दीपक शर्मा
उपनाम – दीप
जन्म – १३ अक्टूबर १९८९
ग्राम व पोस्ट - कनकपुर
पिंडरा – २२१२०६
वाराणसी ( उत्तर प्रदेश )
शिक्षा – प्रारंभिक शिक्षा कनकपुर के प्राथमिक विद्यालय से तदोपरांत मध्य प्रदेश में निवास एवं उच्च शिक्षा अभियांत्रिकी स्नातक ( वैद्युतिकीय एवं संचार ) भोपाल से संपन्न I
प्रकाशन – दैनिक भास्कर जबलपुर से निरंतर रचनाओं का प्रकाशन , ‘विभोम स्वर’ , दृष्टिपात , हस्ताक्षर ( वेब पत्रिका ) में रचनाएं प्रकाशित , कविता कोश में रचनाओं को स्थान
वर्तमान निवास –
मकान संख्या – ३४३
पेप्टेक सिटी
पन्ना रोड
ग्राम – सोहावल
सतना ( मध्य प्रदेश )
पिन – ४८५४४१
संपर्क- ९५४०७४९१६६
यही बीमार होना है , यही दुश्वार होना
तमाशा ये कहाँ यारा वहाँ उस पार होना है I

दिखाना रोज़ है मुँह भी सगाई भी नहीं होनी
बरहना रोज़ हो के , रोज़ ही तैयार होना है I

गिला भी कब तलक रखते कि जब ये जानते ही थे
वही हर रोज़ होना है , वही हर बार होना है I

चले जाओ यहाँ से तुम मुहब्बत की गली है ये
मिरी तरहा तुम्हें भी उम्र-भर बेदार होना है ?

मुक़ाबिल में कशमकश और पेंचो-ख़म मुसलसल हैं
बड़ा दुश्वार दुनिया में किसी से प्यार होना है I

हमे भी लूटना है अस्मतों को क़त्ल करना है
हमे भी अब शहर में एक इज़्ज़तदार होना है I

न सोया रात सारी मैं मुझे ये खौफ़ खाता था
सुबह के साथ कल को हाथ में अखबार होना है I

लिपटकर के शहादत रो पड़ी सैनिक से कहकर कि
मिरे बच्चे ! तिरे मरने पे भी व्यापार होना है I

वही तो हो रहा है ना वही जो हो रहा था कल
तुम्हें सरकार होना है , हमे लाचार होना है I

हकीकत में हकीकत कुछ नहीं है, ये हकीकत है
तज़ुर्बा कर, तज़ुर्बे से ही कश्ती पार होना है I


ज़रूरी है कि पहले फूल पैरों का बना जाए
ये उसपे है कि कब किसको गले का हार होना है I




2 comments:

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget