WRITER NAMEरचनाकार परिचय:-


सुशील कुमार शर्मा व्यवहारिक भूगर्भ शास्त्र और अंग्रेजी साहित्य में परास्नातक हैं। इसके साथ ही आपने बी.एड. की उपाध‍ि भी प्राप्त की है। आप वर्तमान में शासकीय आदर्श उच्च माध्य विद्यालय, गाडरवारा, मध्य प्रदेश में वरिष्ठ अध्यापक (अंग्रेजी) के पद पर कार्यरत हैं। आप एक उत्कृष्ट शिक्षा शास्त्री के आलावा सामाजिक एवं वैज्ञानिक मुद्दों पर चिंतन करने वाले लेखक के रूप में जाने जाते हैं| अंतर्राष्ट्रीय जर्नल्स में शिक्षा से सम्बंधित आलेख प्रकाशित होते रहे हैं |

आपकी रचनाएं समय-समय पर देशबंधु पत्र ,साईंटिफिक वर्ल्ड ,हिंदी वर्ल्ड, साहित्य शिल्पी ,रचना कार ,काव्यसागर, स्वर्गविभा एवं अन्य वेबसाइटो पर एवं विभ‍िन्न पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाश‍ित हो चुकी हैं।

आपको विभिन्न सम्मानों से पुरुष्कृत किया जा चुका है जिनमे प्रमुख हैं

1.विपिन जोशी रास्ट्रीय शिक्षक सम्मान "द्रोणाचार्य "सम्मान 2012
2.उर्स कमेटी गाडरवारा द्वारा सद्भावना सम्मान 2007
3.कुष्ट रोग उन्मूलन के लिए नरसिंहपुर जिला द्वारा सम्मान 2002
4.नशामुक्ति अभियान के लिए सम्मानित 2009

इसके आलावा आप पर्यावरण ,विज्ञान, शिक्षा एवं समाज के सरोकारों पर नियमित लेखन कर रहे हैं |


कैलेंडर से उतरता वर्ष।
दे रहा है मन को हर्ष ।
कुछ विस्मृत सी यादें ।
कुछ चीखती फरियादें ।
काले धन पर चोट है ।
आज भी बिकता वोट है ।
नोट बंदी का ऐलान है ।
लाइन में खड़ा इंसान है ।
आतंकियों से फाइट है ।
सीमा पार सर्जीकल स्ट्राइक है ।
जेनयू की शर्म है ।
नीच होते कर्म है ।
पाकिस्तान की फ़ांस है ।
चीन की अटकी साँस है ।
पक्ष कटिबद्ध है ।
विपक्ष अवरुद्ध है ।
परिजनों की पीर है ।
मन बहुत अधीर है ।
कहीं ख़ुशी कहीं गम है ।
हँसते हुए भी आँखे नम है ।
चुनौतियों का चक्कर है ।
ख़ुशी और गम में टक्कर है ।
रोती सिसकती संवेदना है ।
मन में घुटती वेदना है ।
समाज का ध्रुवीकरण है ।
दिखावे का आकर्षण है ।
'सुल्तान'से 'दंगल'है ।
बाकी सब कुशल मंगल है ।
चटुकारिता चौमुखी है ।
मनुष्य बहुमुखी है ।
सच लिखना दायित्व है ।
सहमा सा साहित्य है ।
सम्मान बिकता है ।
सृजन सिसकता है ।
स्मृतियों के दंश हैं ।
भविष्य के सुनहरे अंश हैं ।
नववर्ष का आगमन है ।
संभावनाओं का आचमन है ।
सत्य के संकेत हैं ।
सभी श्याम श्वेत हैं ।
सुरभित व्यक्तित्व हैं ।
सुरक्षित अस्तित्व हैं ।
सुसंस्कृत व्यवहार हैं ।
संपन्न परिवार हैं ।
मन कृत संकल्प हैं ।
खुशियों के विकल्प हैं ।
सच के सिद्धान्त हैं ।
अस्तित्व सीमांत हैं ।
गुड़ियों के खिलौने हैं ।
बचपन सलौने हैं ।
शिक्षा का अधिकार है ।
बढ़ते व्यापार हैं।
सांझी सी साँझ है ।
प्रेम की झांझ है ।
सीमा पर वीर हैं ।
बाँकुरे रणधीर हैं ।
शत्रु हैरान है ।
झूठ परेशान है ।
साहित्य समृद्ध है ।
सत्य वचनबद्ध है ।
शब्दों के अर्थ हैं ।
शंकाएँ व्यर्थ हैं ।
प्रगति के सोपान हैं ।
लक्ष्यभेद विमान हैं ।
नवीनताओं का सृजन है ।
अहंकारों का विसर्जन है ।
व्यवस्थित अवधारणाएं हैं ।
असीमित संकल्पनाएँ हैं ।
सभी को नववर्ष की शुभकामनाएं हैं।

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget