रचनाकाररचनाकार परिचय:-


राजेश भंडारी “बाबु”
१०४ महावीर नगर इंदौर
९००९५०२७३४
घनो याद रेगो यो नोटबंदी को साल,
“जन धन” वाला हुवा हे माला माल ,
लखपति हुइग्या जो था कदी कंगाल ,
घनो याद रेगो यो नोटबंदी को साल |
ठग्या सा दिखी रिया बेईमान ने नक्काल
सरकार भी चली री हे चाल पे चाल
रद्दी कागज़ वाई गयो करोडो को माल
घनो याद रेगो यो नोटबंदी को साल |
काला धन वाला की खेचाई गी हे खाल
फ़साने सरकार फेकी री जाल पे जाल
अच्छा अच्छा स्याणा का बुरा हुवा हे हाल
घनो याद रेगो यो नोटबंदी को साल |
बेईमान होण पानी पि पि के बके हे गाल
कानून बाची बाची के बुरा हुवा हे हाल
गुलाबी नोट दिखावे हे रोज नया कमाल ,
घनो याद रेगो यो नोटबंदी को साल |
बेंक ने सरकार का खजाना हुवा गच
अबे नि कई तकलीफ ने मच मच
घुसखोर मेनेजर के जेल में दिया डाल
घनो याद रेगो यो नोटबंदी को साल |
बाई बेन होण को भी बुरो हुवो हे हाल
शरम का मारे हुई रिया हे गाल लाल
छिपाई छिपाई के राख्यो थो खजानों
सबके मालम पड़ने पे मची रयो बवाल
घनो याद रेगो यो नोटबंदी को साल |
मुफलिसी की जिन्दगी हुई हे उनकी आज
करोडो कीमत रखता जिनकी मुछ का बाल
दन निकालना मुश्किल पड़ी रिया जिनके
भारी पडेगो मुफलिसी को यो नवो साल
घनो याद रेगो यो नोटबंदी को साल |




3 comments:

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget