IMAGE1
क्यूँ नींद नहीं आती मुझको ?
क्यूँ उखड़ा-उखड़ा रहता हूँ ?

 मनन कुमार सिंह  रचनाकार परिचय:-



मनन कुमार सिंह संप्रति भारतीय स्टेट बैंक में मुख्य प्रबन्धक के पद पर मुंबई में कार्यरत हैं। सन 1992 में ‘मधुबाला’ नाम से 51 रुबाइयों का एक संग्रह प्रकाशित हुआ, जिसे अब 101 रुबाइयों का करके प्रकाशित करने की योजना है तथा कार्य प्रगति पर है भी। ‘अधूरी यात्रा’ नाम से एक यात्रा-वृत्तात्मक लघु काव्य-रचना भी पूरी तरह प्रकाशन के लिए तैयार है। कवि की अनेकानेक कविताएं भारतीय स्टेट बैंक की पत्रिकाएँ; ‘जाह्नवी’, ‘पाटलीपुत्र-दर्पण’ तथा स्टेट बैंक अकादमी गुड़गाँव(हरियाणा) की प्रतिष्ठित गृह-पत्रिका ‘गुरुकुल’ में प्रकाशित होती रही हैं।

क्या बात हुई,
घड़ी की सूई ठमक गयी,
नीरस लगती दुनिया नयी,
कहने को सब कुछ आज मिला,
कौन बात का करूँ गिला,
पद-पदवी,सब मान-बड़ाई,
बरबस सुख-सुविधाएं आयीं,
फूटा कंठ, मुखरित नव गीत,
कहाँ गये बचपन के मीत,
खुले खेल कबड्डी होती,
बहुतों की धोती ढीली होती,
मारो लंगी, करो पैंतरा,
‘ची-ची’ और रसीली होती,
बाबा-चाचा-बाबूजी फिर माता,
भाई-बहन का दैवी नाता,
शब्द-शब्द पर जीना–मरना,
शब्द-शब्द को ललचाता,
फिर बचपन की पाठ-पढ़ाई,
उमड़ी यौवन की ललाई,
रोजी-रोटी की शुरू कमाई,
फिर जीवन में ललना आयी,
अपना सुर, उनका गीत,
अपना गीत,उनका सुर,
आया जीवन में राग मधुर,
लगा जीवन हो गया सुरपुर,
उतरे नभ से नीक खिलौने,
नरपुंगव के कोमल छौने,
किलकारी से गूँज उठा घर,
तीन पीढ़ी की बनी पकड़,
फिर बातें कुछ इधर-उधर,
होती सबकी खोज-खबर,
दुनिया का दस्तूर जो ठहरा,
सास-ननद का अपना पहरा,
ननद-भौजाई का भी लहरा,
पल-पल का रहता राज यूं गहरा,
चलता पल कभी है ठहरा ?
फिर चाकरी की फेंका-फेंकी,
मनुवा ने मायानगरी देखी,
पल-पल सोच रहा हूँ मैं---
भूली-बिसरी किन यादों के,
कितने सुप्त इरादों के,
अपनी और फिर अपनों की
कितनी-कितनी फरियादों के
बस चिथड़े-चिथड़ेचुनता हूँ।
क्यूँ नींद नहीं आती मुझको ?
क्यूँ उखड़ा-उखड़ा रहता हूँ ?

*

5 comments:

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget