IMAGE1


 मनोरंजन कुमार तिवारी रचनाकार परिचय:-



नाम:- मनोरंजन कुमार तिवारी जन्म तिथि:- 06/01/1980 जन्म स्थान:- भदवर, जिला- बक्सर, बिहार पिता का नाम:- श्री कामेश्वर नाथ तिवारी गाँव:- भद्वर, जिला- बक्सर, बिहार वर्तमान पत्ता:- C/o- कर्ण सिंह, गाँव- घिटोरनी, नजदीक "तालाब",नई दिल्ही-30 मोबाइल न.- 9899018149 Email ID- manoranjan.tk@gmail.com


लौट जाती है, होठों तक आकर वो हर मुस्कुराहट,
जो तुम्हारे नाम होती है,
जो कभी तुम्हारी याद आते ही कई इंच चौडी हो जया करती थी,
उन्मुक्त हँसी, बेपरवाह और बेबाक बातें,
करना तो शायद मैं अब, भूल ही चुका हूँ,
बार-बार जाता हूँ, उस घास में मैदान में,
और ढुन्ढता हूँ, अपने जीवन की वो तमाम स्वच्छंदता,
जो तुमसे मिलते ही पुरे महौल में फै़ल जाया करती थी,
मेरी आँखें चमकने लगती थी रोशनी से,
और ज़ुबां पर ना जाने कहाँ से आ जाते थे,
वो तमाम किस्से,मेरे जीवन के,
जो तुम्हे बताने को आतुर रहता था मैं अक्सर,
हर अंग में स्फूर्ति जग जाती थी,
जैसे पंख मिल गये हो,
मुझे अनंत आसमान में उड़ने के लिये......
अब नहीं होता कुछ भी ऐसा,
जैसे जंग लग गये हो, मेरे हर अंग में,
ज़ुबां पर कुछ आते ही ठहर जाता हूँ,
तुम अक्सर कहा करती थी ना की,
बोलने से पहले सोचा करो,
सिर्फ यही एक इच्छा पूरी की है मैने, तुम्हारी,
अब जबकि तुम साथ नहीं हो,
आँखों की चमक और रोशनी गुम होने लगी है,
अनजाने डर व आशंकाओं की परछाइयों में उलझ कर,
अब उड़ने को पंख नहीं, पैरों से चलता हूँ,
अपने ही अस्तित्वा का भार उठाये,
मेरे कंधे झुक जाते है,
जैसे सहन नहीं कर पा रहे है, जीवन का भार,
आँखें हर व़क्त,जमीं में गड़ी रहती है,
जैसे ढून्ढ रही हो, कोई निसां,
जो उन राहों पर चलते हुए,हमने कभी छोड़ा था,
अब धूप में, चेहरे की रंगत उड़ जाने का डर नहीं होता,
और छाया भी दे नहीं पाती ठंडक तन को,
कानों में कभी तुम्हारी अवाज़ गूँज जाती है,
जैसे पुकार रही हो तुम, मुझे पीछे से,
ठहर जाता हूँ कुछ पल के लिये,
देखता हूँ, मुड कर पीछे, मगर वहाँ कोई नहीं होता,
दूर, बहुत दूर जहाँ मेरी आँखों की रोशनी
बमुश्किल पहुँच पाती है,
एक अस्पष्ट सी छाया नज़र आती है,
देखती है मुझे और ठठाकर हँसती है,
जैसे व्यंग कर रही हो मुझ पर,
फिर अचानक रुक जाती है,
पोछती है अपने आँचल से वे आँसू के बूँदे,
जो उसके गालों पर लुडक आते है,
फिर गुम हो जाती है वो छाया भी
जैसे गुम हो गयी थी तुम कभी।

1 comments:

  1. मनोरंजन कुमार तिवारी जी, "जीवन रोशनी" यह कविता काफ़ी पसंद आयी.

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget