IMAGE1
जून की तपती दोपहरी में बाज़ार की तमाम दुकानें बंद थीं। कुछेक दुकानों के स्टर आधे गिरे हुए थे। जिनके भीतर दुकानदार आराम कर रहे थे। एक व्यक्ति प्यासा भटक रहा था। एक खुली दुकान देखकर उसने राहत की सांस ली।




 महावीर उत्तरांचली रचनाकार परिचय:-



१. पूरा नाम : महावीर उत्तरांचली
२. उपनाम : "उत्तरांचली"
३. २४ जुलाई १९७१
४. जन्मस्थान : दिल्ली
५. (1.) आग का दरिया (ग़ज़ल संग्रह, २००९) अमृत प्रकाशन से। (2.) तीन पीढ़ियां : तीन कथाकार (कथा संग्रह में प्रेमचंद, मोहन राकेश और महावीर उत्तरांचली की ४ — ४ कहानियां; संपादक : सुरंजन, २००७) मगध प्रकाशन से। (3.) आग यह बदलाव की (ग़ज़ल संग्रह, २०१३) उत्तरांचली साहित्य संस्थान से। (4.) मन में नाचे मोर है (जनक छंद, २०१३) उत्तरांचली साहित्य संस्थान से।

"लालाजी प्यासे को पानी पिला दो," थकेहारे राहगीर ने मेवे की दुकान पर बैठे सेठजी से कहा। दुर्भाग्यवश तभी बिजली भी चली गई।

"बैठ जाओ, अभी नौकर खाना खाकर आता ही होगा। आएगा तो तुम्हे भी पानी मिलेगा और मेरा गला भी तर होगा।" लालाजी ने फ़रमाया और हाथ के पंखे से खुद को हवा करने लगे।

लगभग दस-पन्द्रह मिनट गुज़र गए।

"लालाजी और किनती देर लगेगी।" करीब दस मिनट बाद प्यास और गर्मी से व्याकुल वह व्यक्ति पुन: बोला।

"बस नौकर आता ही होगा।" लाला स्वयं को पंखा झालते हुए आराम से बोले।

"लालाजी, दुकान देखकर तो लगता है, आप पर लक्ष्मी जी की असीम कृपा है।" व्यक्ति ने समय काटने हेतु बातचीत के इरादे से कहा।

"पिछली सात पुश्तों से हम सूखे मेवों के कारोबार में हैं और फल-फूल रहे हैं।" लालाजी ने बड़े गर्व से जवाब दिया।

"आप दुकान के बाहर एक प्याऊ क्यों नहीं लगा देते?"

"इससे फायदा।"

"जो पानी पीने आएगा। वो हो सकता है इसी बहाने आपसे मेवे भी ख़रीद ले।"

"तू ख़रीदेगा?"

"क्या बात करते हैं लालाजी," वह व्यक्ति हंसा, "यहाँ सूखी रोटी के भी लाले पड़े हैं और आप चाहते हैं कि मैं महंगे मेवे खरीदूं। ये तो अमीरों के चौंचले हैं।"

"चल भाग यहाँ से तुझे पानी नहीं मिलेगा।" लालाजी चिढ़कर बोले।

"लालाजी, जाते-जाते मैं एक सलाह दूँ।"

"क्या?"

"चुनाव करीब हैं, आप राजनीति में क्यों नहीं चले जाते?"

"क्या मतलब?"

"मैं पिछले आधे घंटे से आपसे पानी की उम्मीद कर रहा हूँ मगर आपने मुझे लटकाए रखा," वह व्यक्ति गंभीर स्वर में बोला, "राजनीतिज्ञों का यही तो काम है।"

तभी बिजली भी लौट आई। ठंडी हवा के झोंके ने बड़ी राहत दी और माहौल को बदल दिया।

"तू आदमी बड़ा दिलचस्प है बे।" लालाजी हँसते हुए बोले, "वो देख सामने, नौकर फ्रिज का ठंडा पानी ले कर आ रहा है। तू पानी पीकर जाना। वैसे कम क्या करते हो भाई?"

"इस देश के लाखों और विश्वभर के करोड़ों युवाओं की तरह बेरोजगार हूँ।" प्यासे आदमी का जवाब सुनकर सेठजी अचम्भित थे।

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget