रचनाकाररचनाकार परिचय:-

नाम- भगवान धामी
जन्म- 12 मई 1991
स्थान- स्यांकुरी नामक सीमान्त गांव जो पिथौरागढ़ जिला उत्तराखण्ड में है।

सामान्य अध्ययन का अध्यापन करना शौक है। पेशे से सरकारी कर्मचारी।

वर्तमान में देहरादून में निवासित।

Blog लिखता हूँ- dhami-poems.blogspot.com

ये मेरा फेसबुक पेज है-
https://www.facebook.com/DhamiBhagwan/

e mail- dhamigod33@gmail.com
अजीब सी पशोपेश है ज़िन्दगी
सच नज़र नहीं आता झूठ समझ नहीं आता

मैं तेरे साथ तो हूँ पर
तू दिल में ही आता है जुबाँ पे नहीं आता
तेरे जैसा सितमगार नहीं कि यूँही याद आके मुड़ जाऊँ
मैं तो बहम हूँ तेरा सांसों में तो आता हूँ लबों पे नहीं आता

मेरे मंज़िल की सीढ़ी भी यहीं थी कहीं पर
आज रास्ते हज़ारों बन गए रास्ता नज़र नहीं आता
सारी रात इसी पशोपेश में गुजर गई अपनी तो
वो शख्स यादों में तो आता है पर सामने नहीं आता

वाकया क्या कहूँ दुनिया वालों
चल तो रहा हूँ मीलों के फासले पर
चेहरा तेरा पीछे नहीं छूटता,
एक अजीब सी रुमानियत थी उस शख्स के आँखों में
आँखे बंद होती है पर वो नज़ारा नहीं हटता।




0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget