रचनाकार परिचय:-

अभिषेक उपाध्याय श्रीमंत
जन्म एवं जन्म स्थान -
02अक्टूबर 1987,देवराजपुर ,सुलतानपुर,(उत्तर प्रदेश ) के एक जमींदार परिवार में ।
शिक्षा -दीक्षा -----
एम○ए○,बी○एड○,नेट (हिन्दी)प्रारम्भिक शिक्षा गृहजनपद में ही ,स्नातकोत्तर की शिक्षा टी○डी○कालेज जौनपुर से ।
रचनाएँ ----
विभिन्न पत्र पत्रिकाओं में प्रकाशित व वाएस पब्लिकेशन द्वारा प्रकाशित 'शब्दों के रंग '(साझा काव्य संग्रह )व 'सत्यम प्रभात'(प्रेरक साझा काव्य संग्रह ) में संकलित ।
सम्पर्क ---
देवराजपुर, तहसील कादीपुर, सुलतानपुर (उत्तर प्रदेश )7054198181 &8922042378
सम्प्रति, वीर बहादुर सिंह पूर्वांचल विश्व विद्यालय से सम्बद्ध एक महाविद्यालय में असिस्टेंट प्रोफेसर (हिन्दी)के पद पर अनुमोदित होकर अध्यापनरत ।
ई मेल- priyankupadhyay440@gmail.com
'जादूगर परिन्दे '(गजल)

●अभिषेक उपाध्याय श्रीमंत
~~~~~~~~~~~~~~~~

ये जादूगर परिन्दे हैं 'हवा में घर बनाते हैं
ये तिनका जोड़कर के जिन्दगी सुंदर बनाते हैं ।

यहाँ हम हैं,मकाँ है, भीड़ भी रिश्तों की है लेकिन
हमीं क्यों खुद को यूँ तनहा यहाँ अक्सर बनाते हैं ।

परों का कोई रिश्ता ही नहीं होता उड़ानों से
उड़ानें उनकी हैं जो हौसलों को पर बनाते हैं ।

दरख्तों के बिना भी ये सफर वैसे का वैसा है
सफर आसाँ यहाँ माँ के चरण छूकर बनाते हैं ।

अरे अब तो हटाओ पश्चिमी रंगों की बदरंगी
नयी पीढ़ी के बच्चों को यही लोफर बनाते हैं ।

यहाँ बस लूट के मंजर हैं, कैसी लोकशाही है
ये खुदगर्जी के आलम देश को बदतर बनाते हैं ।

हमारे इस घरौंदे में अभावों का सुशासन
है
बड़ी शिद्दत से हम चादर को ही बिस्तर बनाते हैं ।

नहीं सम्मान वो जो तू कभी तनकर बना पाया
वही सम्मान हम श्रीमंत यूँ झुककर बनाते
हैं ।

●----अभिषेक उपाध्याय श्रीमंत
------------------------------------------------------




2 comments:

  1. दिनांक 31/05/2017 को...
    आप की रचना का लिंक होगा...
    पांच लिंकों का आनंद पर...
    आप भी इस चर्चा में सादर आमंत्रित हैं...
    आप की प्रतीक्षा रहेगी...

    उत्तर देंहटाएं
  2. अपनी संस्कृति और जड़ों में समायी समृद्ध विरासत से दूर चकाचौंध की दुनिया से हमें वह हासिल नहीं होगा जो जिसके लिए हम उसके आकर्षण पर मुग्ध हैं. विचारणीय रचना।

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget