रचनाकाररचनाकार परिचय:-

ज्योत्सना सक्सेना
शिक्षा ; एम. एस . सी ( गृह- प्रबंध ) एम. ए (अर्थशास्त्र ) बी . एड
संप्रति - प्रधानाचार्य रा . उच्च .मा. विद्यालय सवना , भिंडर ,उदयपुर संपर्क - 10/ 697 , कावेरी पथ , मानसरोवर जयपुर 302020
Eमेल ; jyotsna. saxena1963@gmail.com
phone - 09829577660
प्रकाशन ; सिटी भास्कर , दैनिक भास्कर मधुरिमा ,नवभारत , नवीन दुनिया नारी निकुंज, साप्ताहिक कॉलम लेखन (सन स्टार रायपुर ) , बिंदिया मासिक पत्रिका , अंजुम मासिक पत्रिका , युग गरिमा .साध व्यूज़ मासिक पत्रिका एवं अनेक पत्र पत्रिकाओं में लगभग २५ वर्षों से कविता , कहानी एवं लेखों का प्रकाशन कवितासंग्रह : अजुरी भर हरसिंगार ( बोधिप्रकाशन ) , शुभमस्तु २ (साझा संकलन ) एवं सहोदरी सोपान ( साझा संकलन ),शब्दों के रंग ( साझा संकलन )

विपरीत हवाओं में साहस की पतवार
तप्त रेत में मुस्कुराते मेघों की पदचाप
कुदरत का हर तिनका अपने आप में है एक कविता ----
मयूरी सा मन नर्तन अदाकारी का उल्लास
गौरैया सा चहकना चींटी सा विश्वास
बगुलों की पांत छापती है नभ में एक कविता ----
गदराये पलाश संवेदनाओं का ताप
कोयल आलाप लहराते आम्रपल्लव
फागणी बयार में इतराती है एक कविता ----
मुट्ठी में चाँद तारों की ओढ़नी
लबालब ख़ुशी में ज्योत्स्ना
इन्द्रधनुष वितान में झुलाती है एक कविता ----
रस में रास में भक्ति और श्रृंगार में
ओज हो सेज हो सुदामा का वेश हो
कान्हा की मुरलिया बन जाती है एक कविता ----
यक्ष यक्षिणी का शाश्वत संवाद हो
प्रणयी कपोत का स्पर्श नाद हो
दिगंतराल तक माधुर्य फैलाती है एक कविता ----
--ज्योत्सना सक्सेना




0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget