IMAGE1



 अवनीश तिवारी रचनाकार परिचय:-






नाम - अवनीश तिवारी


सम्प्रति -

बहुराष्ट्रीय कंपनी में वरिष्ठ सॉफ्टवेयर अभियंता के पद पर कार्यरत ।

अंतरजाल पर अपनी रचनाओं और लेखन के साथ हिन्दी साहित्य के क्षेत्र में सक्रिय ।


निवास - मुम्बई




अपने सारे ,
खट्टे - मीठे अनुभवों को,
कमीज के जेब में जमा कर ,
शाम घर पहुंच मैंने ,
अलमारी की खूंटी पर टांग दी ,
दिनभर की कमाई को ...

जेब से उनको निकाल ,
तकिये के नीचे रख ,
रात मैं सो गया ...

ठण्ड हवा में ,
सिहर ,
पूनम - चांदनी के ,
दुलार से ,
ओस - बूंदों में,
नहा ,
अंकुरित होने लगे वे ...

छटते कुहरे ने ,
संवारा ,
उषा किरणों ने ,
हाथ थाम बढ़ाया ,
बढ़ती रोशनी में हँसने लगे ,
छोटे - छोटे पौधे बन...

मेरे जगने पर ,
उनपर फूल लगे थे ,
सुबह की नयी उम्मीदों के ।

-- अवनीश तिवारी

विधा - मुक्त छंद
२७-११-२०१६




1 comments:

  1. ठण्ड हवा में ,
    सिहर ,
    पूनम - चांदनी के ,
    दुलार से ,
    ओस - बूंदों में,
    नहा ,
    अंकुरित होने लगे वे ...
    आदरणीय ,सुन्दर व रोचक प्रस्तुति ,आभार। "एकलव्य"
    आभार।

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget