IMAGE1

 डा. महेंद्र भटनागर रचनाकार परिचय:-


डा. महेंद्रभटनागर
सर्जना-भवन, 110 बलवन्तनगर, गांधी रोड, ग्वालियर -- 474 002 [म. प्र.]

फ़ोन : 0751-4092908 / मो. 98 934 09793
E-Mail : drmahendra02@gmail.com
drmahendrabh@rediffmail.com




काटो धान, काटो धान, काटो धान।
सारे खेत
देखो दूर तक कितने भरे,
कितने भरे / पूरे भरे।
घिर लहलहाते हैं
न फूले रे समाते हैं!
हवा में मिल
कुसुम-से खिल।
उठो, आओ,
चलो, इन जीर्ण कुटियों से
बुलाता है तुम्हें, साथी खुला मैदान।
काटो धान, काटो धान, काटो धान।
जब हिम-नदी का चू पड़ा था जल
अनेकों धार में चंचल,
हिमालय से बहायी जो गयी थी धूल
उसमें आज खिलते रे श्रमिक!
तेरे पसीने से सिँचे
प्रति पेड़ की हर डाल में
सित, लाल, पीले, फूल।
जीन के लिए देती तुम्हें
ओ! आज भू माता सहज वरदान।
काटो धान, काटो धान, काटो धान।
आकाश में जब घिर गए थे
मॉनसूनी घन सघन काले,
हृदय सूखे हुए
तब आश-रस से भर गए थे
झूम मतवाले।
किसी
सुन्दर, सलोनी, स्वस्थ, कोमल, मधु
किशोरी के नयन
कुछ मूक भाषा में
नयी आभा सजाए
जगमगाए श्वेत-कजरारे।
हुए साकार
भावों से भरे
अभिनव सरल जीवन लिए,
नूतन जगत के गान।
काटो धान, काटो धान, काटो धान।
जो सृष्टि के निर्माण हित बोए
तुम्हारी साधना ने बीज थे
वे पल्लवित।
सपने पलक की छाँह में पा चाह
शीतल ज्योत्स्ना की गोद में खेले।
(अरी इन डालियों को बाँह में ले ले!)
उठो!
कन्या-कुमारी से अखिल कैलाश केे वासी
सुनो, गूँजी नयी झंकार।
हर्षित हो, उठो
परिवार सारे गाँव के
देखो कि चित्रित हो रहे अरमान।
काटो धान, काटो धान, काटो धान।
टूटे दाँत / सूखे केश
मुख पर झुर्रियों की वह सहज मुसकान,
प्रमुदित मुग्ध
फैला विश्व में सौरभ
महकता नभ,
सजग हो आज
मेर देश का अभिमान।
काटो धान, काटो धान, काटो धान।





==================

3 comments:

  1. मेहनत जब रंग लाती है तो मन में जो सुख उपजता वह अवर्णनीय होता है
    बहुत सुन्दर लहराती रचना

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाह ! क्या बात है सुन्दर ,कोमल भावनाओं से सजी रचना आभार। "एकलव्य"

    उत्तर देंहटाएं
  3. इस बसंत के रुतु में सारे खेत खलियान खिल उठते हैं, तभी उसे देखकर हमारी मेहनत का फ़ल मिल गया ऐसा लगता हैं,
    बहुत मनभावक रचना

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget