रचनाकार परिचय:-

विजयानंद ' विजय '
पता-
आनंद निकेत
बाजार समिति रोड
पो- गजाधरगंज
बक्सर (बिहार )-802103
जन्मतिथि - 1-1 -1966
संप्रति - सरकारी सेवा(अध्यापन)
निवास- आरा(भोजपुर),बिहार
मो.- 9934267166


सावन के झूले में झूले
बारिश की बूंदों में भींगे।
बचपन के सब खेल निराले
यादों के वे पवन हिंडोले।
उमड़-घुमड़ बादल से बरसे
घूमे सारा गांव, रे मनवां।
कहां गया -- वो गांव !
ताल-तलैया गली- चौबारे
सब कितने लगते थे प्यारे।
हरे चने, गेहूं की बाली
हरे - भरे खेत खलिहान।
रात चांदनी मक्के झूमें
ढूंढ़े वही मचान, रे मनवां।
कहां गया-- वो गांव !
स्मृतियों में मेले की फिरकी
घुंघरू बांध ,नाचे कठपुतली।
डमरू-मदारी, नाच बंदरिया
सजी-धजी जापानी गुड़िया।
बाबा के कांधे पर चढ़के
घूमे सारा गांव ,रे मनवां।
कहां गया-- वो गांव !
होली की रंगीन ठिठोली
लो निकली मस्तों की टोली।
रंग-गुलाल में घुलता यौवन
अतुल स्नेह से खिलता उपवन।
दीवाली फुलझड़ियों वाली
जगमग है हर ठांव, रे मनवां।
कहां गया -- वो गांव !
काका की सरपंच-कचहरी
कुछ अनसुनी-अनछुई फरियादें।
मुखियाजी मूंछों में कहते
न्याय जगत की कथा पुरानी।
शांति -सुलह की खुशहाली में
डूबा गांव-गिरांव, रे मनवां ।
कहां गया -- वो गांव !




0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget