रचनाकाररचनाकार परिचय:-

राजीव रंजन प्रसाद

राजीव रंजन प्रसाद ने स्नात्कोत्तर (भूविज्ञान), एम.टेक (सुदूर संवेदन), पर्यावरण प्रबन्धन एवं सतत विकास में स्नात्कोत्तर डिप्लोमा की डिग्रियाँ हासिल की हैं। वर्तमान में वे एनएचडीसी की इन्दिरासागर परियोजना में प्रबन्धक (पर्यवरण) के पद पर कार्य कर रहे हैं व www.sahityashilpi.com के सम्पादक मंडली के सदस्य है।

राजीव, 1982 से लेखनरत हैं। इन्होंने कविता, कहानी, निबन्ध, रिपोर्ताज, यात्रावृतांत, समालोचना के अलावा नाटक लेखन भी किया है साथ ही अनेकों तकनीकी तथा साहित्यिक संग्रहों में रचना सहयोग प्रदान किया है। राजीव की रचनायें अनेकों पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित हुई हैं तथा आकाशवाणी जगदलपुर से प्रसारित हुई हैं। इन्होंने अव्यावसायिक लघु-पत्रिका "प्रतिध्वनि" का 1991 तक सम्पादन किया था। लेखक ने 1989-1992 तक ईप्टा से जुड कर बैलाडिला क्षेत्र में अनेकों नाटकों में अभिनय किया है। 1995 - 2001 के दौरान उनके निर्देशित चर्चित नाटकों में किसके हाँथ लगाम, खबरदार-एक दिन, और सुबह हो गयी, अश्वत्थामाओं के युग में आदि प्रमुख हैं।

राजीव की अब तक प्रकाशित पुस्तकें हैं - आमचो बस्तर (उपन्यास), ढोलकल (उपन्यास), बस्तर – 1857 (उपन्यास), बस्तर के जननायक (शोध आलेखों का संकलन), बस्तरनामा (शोध आलेखों का संकलन), मौन मगध में (यात्रा वृतांत), तू मछली को नहीं जानती (कविता संग्रह), प्रगतिशील कृषि के स्वर्णाक्षर (कृषि विषयक)। राजीव को महामहिम राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी द्वारा कृति “मौन मगध में” के लिये इन्दिरागाँधी राजभाषा पुरस्कार (वर्ष 2014) प्राप्त हुआ है। अन्य पुरस्कारों/सम्मानों में संगवारी सम्मान (2013), प्रवक्ता सम्मान (2014), साहित्य सेवी सम्मान (2015), द्वितीय मिनीमाता सम्मान (2016) प्रमुख हैं।

==========
नवरात्रि पर विशेष आलेख श्रंखला
आलेख – 1-दंतेश्वरी मंदिर, दंतेवाड़ा-  राजीव रंजन प्रसाद

आज के समय में दंतेवाड़ा जिला मुख्यालय हो गया है। यहाँ दंतेश्वरी मंदिर की अवस्थिति के कारण इसे एक धार्मिक पर्यटन नगर होने का गौरव प्राप्त है। बस्तर में काकतीय/चालुक्य वंश के संस्थापक अन्नमदेव से तो दंतेश्वरी देवी की अनेक कथायें जुड़ी ही हुई हैं साथ ही अंतिम शासक महाराजा प्रवीर चन्द्र भंजदेव को भी देवी का अनन्य पुजारी माना जाता था। राजाओं के प्राश्रय के कारण दंतेवाड़ा लम्बे समय तक माफी जागीर रहा है। दन्तेवाड़ा को हालांकि देवी पुराण के 51 शक्ति पीठों में शामिल नहीं किया गया है लेकिन इसे देवी का 52 वां शक्ति पीठ माना जाता है तथा मां दंतेश्वरी की महिमा को अत्यंत प्राचीन धार्मिक कथा "शिव और सती" से जोड़ कर भी देखा जाता है। यह प्रबल आस्था है कि इसी स्थल पर देवी सती का दंत-खण्ड गिरा था। कुछ इतिहासकार मानते हैं कि ग्यारहवी शताब्दी में जब नागवंशी राजाओं ने गंगवंशी राजाओं पर अधिकार कर बारसूर को अपनी राजधानी बनाया; उन्हें पास के ही गाँव तारलापाल (वर्तमान दंतेवाड़ा) में स्थित देवी गुड़ी में अधिष्ठापित देवी की प्रसिद्धि ने आकर्षित किया। नागवंशी राजा जगदेश भूषण धारावर्ष स्वयं देवी के दर्शन करने के लिये तारलापाल उपस्थित हुए तथा बाद में इसी स्थल पर उन्होंने अपनी कुल देवी मणिकेश्वरी की प्रतिमा को स्थापित कर मंदिर बनवाया। चौदहवी शताब्दी में काकतीय राजा अन्नमदेव ने जब नाग राजाओं को पराजित किया उन्होंने भी इस मंदिर में ही अपनी कुल देवी माँ दंतेश्वरी की मूर्ति स्थापित कर दी।

सिंह द्वार से भीतर प्रविष्ठ होते ही मंदिर के समक्ष एक खुला अहाता मौजूद है। माता के मंदिर के सामने ही एक भव्य गरुड़ स्तंभ स्थापित है जिसके बारे में कहा जाता है कि इसे बारसूर से ला कर यहाँ स्थापित कर दिया गया है। मंदिर सादगीपूर्ण है तथा बहुतायत हिस्सा आज भी काष्ठ निर्मित ही है। मंदिर में मुख्य प्रतिमा से अलग अधिकांश मूर्तियाँ नाग राजाओं के समय की हैं। द्वार से घुसते ही जो पहला कमरा है यहाँ दाहिने ओर एक चबूतरा बना है। रियासत काल में राजधानी जगदलपुर से राजा जब भी यहाँ आते तो वहीं बैठ कर पुजारी और प्रजा से बातचीत किया करते थे। मंदिर का दूसरा कक्ष यद्यपि दीवारों की सादगी तथा किसी कलात्मक आकार के लिये नहीं पहचाना जाता किंतु यहाँ प्रवेश करते ही ठीक सामने भैरव बाबा, दोनो ओर द्वारपाल और यत्र-तत्र गणेश, शिव आदि देवों की अनेक पाषाण मूर्तियाँ स्थापित हैं। मंदिर के समक्ष तीसरे कक्ष में अनेक स्तम्भ निर्मित हैं, कुछ शिलालेख रखे हुए हैं, स्थान स्थान पर अनेक भव्य प्रतिमायें हैं साथ ही एक यंत्र भी स्थापित किया गया है।

इस स्थान से आगे किसी को भी पतलून पहन कर जाने की अनुमति नहीं है चूंकि आगे ही गर्भ-गुड़ी निर्मित है, जहाँ माता दंतेश्वरी विराजित हैं। दंतेवाड़ा में स्थापित माँ दंतेश्वरी की षट्भुजी प्रतिमा काले ग्रेनाइट की निर्मित है। दंतेश्वरी माता की इस प्रतिमा की छह भुजाओं में से दाहिनी ओर के हाथों में शंख, खड्ग, त्रिशुल और बाईं ओर के हाँथों में में घंटी, पद्म और राक्षस के बाल हैं। यह प्रतिमा नक्काशीयुक्त है तथा इसके ऊपरी भाग में नरसिंह अवतार का स्वरुप बना हुआ है। प्रतिमा को सर्वदा श्रंगारित कर रखा जाता है तथा दंतेश्वरी माता के सिर पर एक चांदी का छत्र भी स्थापित किया गया है। गर्भगृह से बाहर की ओर द्वार पर दो द्वारपाल दाएं-बाएं खड़े हैं जो चतुर्भुजी हैं। द्वारपालों के बायें हाथ में सर्प और दायें हाथ में गदा धारित है।
मंदिर की गर्भगुड़ी से पहले, उसकी बाई ओर विशाल गणेश प्रतिमा स्थापित है जिसके निकट ही एक द्वार बना हुआ है। इस ओर से आगे बढ़ने पर सामने मणिकेश्वरी देवी का मंदिर है। यहाँ अवस्थित प्राचीन प्रतिमा अष्ठभुजी है तथा अलंकृत है। मंदिर के गर्भगृह में नव ग्रहों की प्रतिमायें स्थापित है। साथ ही दीवारों पर नरसिंह, माता लक्ष्मी और भगवान गणेश की प्रतिमायें हैं। मंदिर के पीछे की ओर चल कर माई जी की बगिया से आगे बढ़ते हुए शंखिनी-डंकिनी नदियों के संगम की ओर जाया जा सकता है।




- राजीव रंजन प्रसाद


==========






1 comments:

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget