रचनाकाररचनाकार परिचय:-

शबनम शर्मा
अनमोल कुंज, पुलिस चैकी के पीछे, मेन बाजार, माजरा, तह. पांवटा साहिब, जिला सिरमौर, हि.प्र. – 173021 मोब. - 09816838909, 09638569237


मैं किसी काम से बैंक में बैठी थी। कार्य कुछ ज्यादा होने की वजह से मैं मैनेजर के चैम्बर में चली गई। अकेली थी काम ज्यादा। कुछ फार्म भरकर मैंने मैनेजर साहब को थमाए। उन्होंने मुझे बैठने व कुछ देर और इन्तज़ार करने को कहा। मैं बैठ कर इधर-उधर आए लोगों को निहारने लगी कि बैंक के मेन गेट से लम्बा, ऊँचा, सुन्दर सा युवक, आधुनिक वेशभूषा में प्रवेश हुआ और मैनेजर साहब का कमरा खेल अन्दर आ गया। पीछे हाथ बाँधे, एक लिफ़ाफा हाथ में थामे उसने कहा, ‘‘सर, मुझे बहुत जरूरी सूचना चाहिये?’’ मैनेजर ने उसे बैठाया व पूछा, ‘‘हाँ, बताओ मैं तुम्हारी क्या मदद कर सकता हूँ।’’ उसने लिफ़ाफा आगे बढ़ाते हुए कहा, ‘‘सर, इसमें मेरे पिताजी के बैंक के कुछ कागज़ हैं, मुझे पता करना है कि यह पैसा किसको मिल सकता है और मुझे यह पैसा लेने के लिये क्या-क्या कार्यवाही करनी होगी, जल्दी बताइए।’’ लिफ़ाफा खोलते ही मैनेजर सकते में आ गया। उसने कहा, ‘‘अभी इसी सप्ताह तो वो अपनी पैंशन लेकर गये हैं, मेरे साथ चाय पी है, क्या हुआ उन्हें? कब हुआ?’’ लड़का बोला, ‘‘परसों सुबह वो हमें छोड़कर चले गये।’’ मैनेजर ने कहा, ‘‘भले मानस डैथ सर्टीफिकेट लेने तक तो इन्तज़ार करते। इतनी भी क्या जल्दी है। आज तीसरा ही दिन है।’’ उसने जवाब दिया, ‘‘सर, वो तो आराम से मर गये। हमें अब समाज की भी लाज रखनी है। खर्च करूँगा उतने हिसाब से ही जो छोड़ कर गये हैं मेरे लिये।’’ मैनेजर ने कम्प्युटर खोला तो देखा, उसकी आँखों में आँखें डालकर बोला, ‘‘बेटा तेरे नाम कुछ नहीं है, उनके सारे खाते तुम्हारी माँ के नाम है। उसकी मर्जी है तुम्हें दे या न दे।’’ लड़का बिजली सा उठा, कागज समेटे व गुस्से में बोला, ‘‘मरता भी ढंग का काम न कर गया, अब करे ये बुढ़िया जो चाहे, मैं तो चला कल अपनी नौकरी पर।’’ मैं पैसे के लिए पागल इस कलयुगी औलाद को ताकती रह गई।






1 comments:

  1. शबनम शर्मा जी, आज कल के इस दुनिया में पैसे से बड़ा कोई नहीं.

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget