सविता मिश्रारचनाकार परिचय:-



सविता मिश्रा o9411418621 w/o देवेन्द्र नाथ मिश्रा (पुलिस निरीक्षक ) फ़्लैट नंबर -३०२ ,हिल हॉउस खंदारी अपार्टमेंट , खंदारी आगरा २८२००२ पिता का नाम ..श्री शेषमणि तिवारी (रिटायर्ड डिप्टी एसपी ) माता का नाम ....स्वर्गीय श्रीमती हीरा देवी (गृहणी ) जन्म तिथि ...१/६/७३ शिक्षा ...बैचलर आफ आर्ट ...(हिंदी ,रजिनिती शास्त्र, इतिहास) अभिरुचि ....शब्दों का जाल बुनना, नयी चीजे सीखना, सपने देखना 'मेरी अनुभूति' परिलेख प्रकाशन से प्रकाशित पहला संयुक्त काव्यसंग्रह 'मुट्ठी भर अक्षर' पहला प्रकाशित साँझा लघुकथा संग्रह | 2012.savita.mishra@gmail.com




मेरी गुड़िया ,मेरी बच्ची,कह-कह शर्माइन बेहोश हुई जा रही थीं|
विधायक शर्मा जी फोन-पर-फोन किए जा रहे थे, पर अभी तक कुछ पता नहीं चला था|
ब्रेकिंग न्यूज़ के नाम से घर-घर न्यूज़ दिख रही थी कि "कद्दावर नेता की कुतिया किसी दुश्मन ने की गायब |"
'कुतिया नहीं कहो, वर्ना चढ़ बैठेंगे, किसी ने फुसफुसाकर कहा| '
"विधायक की गुड़िया को किसी ने किया गायब |" सँभलते हुए पत्रकार बोला
"कई टीमें हुई रवाना , खुद विधायक एक टीम को लीड कर रहे हैं| "
तभी कैमरे के सामने एक लाचार बुड्ढा आ गया |
"अरे बुढ़ऊ, कहाँ बीच में घुसे आ रहे हो|" धक्का मारते हुए पत्रकार बोला
"बेटा, मेरी भी सोलह साल की गुड़िया खो गई है| उसे भी खोजने में मदद कर दो |"
"अब्बे बुड्ढे जाके खोज, होगी कहीं मुँह काला कर रही| देख नहीं रहा, हम ब्रेकिंग न्यूज़ चला रहे|"
"बेटा ऐसा न कहो , मुझे शक है विधायक साहब ने ही गायब किया है| वह इन्ही के यहाँ काम करती थी| महीने से यहीं भूखा-प्यासा बैठा हूँ, पर कोई नहीं सुन रहा|"
तुरंत फिर ब्रेकिंग न्यूज़ तैयार -'कामवाली ने किया विधायक की 'गुड़िया' का 'अपहरण' अभी फ़रार बताई जा रही है| जल्दी ही खोज निकाला जायेगा उसे|
कैमरामैन बूढ़े को एक कुर्सी पर बैठा, पानी -समोसा आफ़र कर, मुस्कराते हुए बोला -"बाबा चिंता ना करो| विधायक की कुतिया यानि 'गुड़िया' की खोज में, तुम्हारीं गुड़िया मिल ही जाएगी अब |"

2 comments:

  1. आपकी इस पोस्ट को आज की बुलेटिन ’परमवीर चक्र से सम्मानित वीर सपूत धन सिंह थापा और ब्लॉग बुलेटिन’ में शामिल किया गया है.... आपके सादर संज्ञान की प्रतीक्षा रहेगी..... आभार...

    उत्तर देंहटाएं
  2. गरीबोँ का बड़े से बड़ा दुःख कोई नहीं सुनता लेकिन अमीरों का छोटासा दुःख हर कोई सुनना चाहता हैं, क्योंकी पैसा बोलता हैं.

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget