रचनाकार परिचय:-

नाम : गुलाब जैन
जन्म : २८-०२-१९५३ (हिसार) हरियाणा
गतिविधियाँ: * आल इंडिया रेडियो द्वारा मान्य लोक-गायक (हरियाणवी और राजस्थानी भाषाएं) और
सूफी गायन के अनेकों कार्यक्रम |
* हरियाणवी भाषा के स्व-रचित लोक गीतों की मेरी दो कैसेटस |
* क़रीब १० साल तक हिंदी पत्रिका 'वनिता' के लिए 'ज्योतिष-स्तम्भ' लिखना |
* सन् २०१० से ज्योतिष और वास्तु विज्ञान पर ब्लॉगिंग |
* 'साहित्य कुञ्ज', 'साहित्य सुधा' एवं 'अनुभूति -हिंदी' नामक वेब -पत्रिकाओं में मेरी चंद ग़ज़लें
प्रकाशित |
ब्लॉग : https://www.stargurugulab.blogspot.in

संपर्क : jain.gulab@gmail.com

मोबाइल : 09886800691
 सपने

मेरी आँखों में हुए दफ़्न कितने सपने |
जब हुए दूर मुझसे सब मेरे अपने |
मैंने तो चाहा फ़क़त तसव्वुर में उन्हें,
न जाने कैसे ये अफ़साने लगे छपने |
जो भी सच्चा है बशर इस भरी दुनिया में,
उसको हमेशा फटे-हाल में देखा सबने |
वादा करते थे जो हर दम साथ देने का,
आया तूफां तो सब चल दिए घर अपने |
सांस का क्या है, आज है, कल नहीं,
क्यूँ सजा रखे हैं फिर इतने सपने |


ज़िन्दगी

भागती और दौड़ती ये ज़िन्दगी
सब को पीछे छोड़ती ये ज़िन्दगी |
ख्वाब थोड़े पूरा करती ये ज़िन्दगी
और थोड़े तोड़ती ये ज़िन्दगी |
हर कदम पे है नया इक इम्तहाँ
कोई भी समझा न इसकी दास्ताँ
कर के हैरां छोड़ती ये ज़िन्दगी |
मासूमियत के पहन मुखौटे यहाँ
कैसी -कैसी चाल ये चलता जहाँ
कर के परीशां छोड़ती ये ज़िन्दगी |


'अनकही व्यथा '

एक कहानी और एक गीत
चाहा था, सुनाऊँ तुम्हें
दिल का दर्द बताऊँ तुम्हें
पर समय कहाँ था
तुम्हारे पास !
मेरी कहानी, मेरे गीत के लिए,
अपने जीवन के इस मीत के लिए,
पर, अब न जाने
मेरी कहानी, मेरे गीत,
कहाँ भटक गए ?
मेरे दिल में, मेरे गले में,
न जाने क्यों अटक गए
न जाने कौन सुनेगा
मेरे इस दिल की व्यथा
मेरी अनकही कथा
न जाने कौन, कब, कहाँ
न जाने कौन ...!




0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget