रचनाकार परिचय:-

छगन लाल गर्ग
पिता : श्री विष्णु राम जी
प्रकाशित पुस्तके : "क्षण बोध " काव्य संग्रह गाथा पब्लिकेशन, लखनऊ ( उ,प्र)
"मदांध मन" काव्य संग्रह, उत्कर्ष प्रकाशन, मेरठ (उ,प्र)
"रंजन रस" काव्य संग्रह, उत्कर्ष प्रकाशन, मेरठ (उ,प्र)
"अंतिम पृष्ठ" काव्य संग्रह, अंजुमन प्रकाशन, इलाहाबाद (उ,प्र)
"तथाता " छंद काव्य, उत्कर्ष प्रकाशन, मेरठ ।
वर्तमान मे: बाल स्वास्थ्य एवं निर्धन दलित बालिका शिक्षा मे सक्रिय सेवा कार्य ।अनेकानेक साहित्य पत्र पत्रिकाओ व समाचार पत्रों में कविता व आलेख प्रकाशित ।
सम्मान : "हिन्दी साहित्य गौरव सम्मान -2016" उत्कर्ष प्रकाशन द्वारा ।
रूचि : शिक्षा चिंतन व साहित्य सृजन ।
वर्तमान पता : 2 डी 78 राजस्थान आवासन मंडल, आकरा भट्टा, आबूरोड जिला - सिरोही (राजस्थान )307026
मोबाइल 9461449620
EMAIL: Chhaganlaljeerawal@gmal.com
बचपन खो गया ।
============

हरि गीतिका छंद ।

निर्झर रागिनी रास गया रे , अतीत सुखद खो गया ।
प्राण संगीत तार घीसते , टूटता तन सो गया ।
चेतना का अहसास गहरा, नाश से घबरा गया ।
लो जीवन रागिनी तडपती,याद मीठी खो गया ।।1

जवान देह में याद जगती , मौज बचपन खो गया ।
बुढियन देह मे आग उठती, लौ जवानी खो गया ।
मौत आयी संताप उठता, देह विहीन हो गया ।
निश्चय यही जीवन हमारा, हमसे परेशान हो गया ।।2

जीता हो जहां मानव सदा ,खुशी आ पाती नही ।
ढूँढे खुशियाँ व्यतीत हुई , अतीत गुजारा वही ।
सुन्दर सा अतीत भोग चले, बचपन सुहाया सही ।
कहना तत्काल का क्या करें, अभागे खुशियाँ नही ।।3

बचपन घना यादो बसा हैं , डांट नित खाते रहे ।
माँ बाप से शिक्षक डपटते , सभी से दबते रहे ।
शिक्षक अजीब प्रेम प्रकटते , डंडे चलाते रहे ।
असहाय तन से मन मसोसे, युवा चाहत सो रहे।। 4

सच कहूँगा मनबात सुन लो, विगत काल भला रहा।
कंटक चुभन सी छल वासना,जोश तनाव खो रहा ।
बचपन की अबोध क्रीडाये, मजे से उडता रहा ।
कड़ी धूप अब भूल चुका हूँ , बचपन याद खो रहा ।।5

छगन लाल गर्ग विज्ञ ।



0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget