रचनाकार परिचय:-

छगन लाल गर्ग
पिता : श्री विष्णु राम जी
प्रकाशित पुस्तके : "क्षण बोध " काव्य संग्रह गाथा पब्लिकेशन, लखनऊ ( उ,प्र)
"मदांध मन" काव्य संग्रह, उत्कर्ष प्रकाशन, मेरठ (उ,प्र)
"रंजन रस" काव्य संग्रह, उत्कर्ष प्रकाशन, मेरठ (उ,प्र)
"अंतिम पृष्ठ" काव्य संग्रह, अंजुमन प्रकाशन, इलाहाबाद (उ,प्र)
"तथाता " छंद काव्य, उत्कर्ष प्रकाशन, मेरठ ।
वर्तमान मे: बाल स्वास्थ्य एवं निर्धन दलित बालिका शिक्षा मे सक्रिय सेवा कार्य ।अनेकानेक साहित्य पत्र पत्रिकाओ व समाचार पत्रों में कविता व आलेख प्रकाशित ।
सम्मान : "हिन्दी साहित्य गौरव सम्मान -2016" उत्कर्ष प्रकाशन द्वारा ।
रूचि : शिक्षा चिंतन व साहित्य सृजन ।
वर्तमान पता : 2 डी 78 राजस्थान आवासन मंडल, आकरा भट्टा, आबूरोड जिला - सिरोही (राजस्थान )307026
मोबाइल 9461449620
EMAIL: Chhaganlaljeerawal@gmal.com
■गीत■
मानवता कब होगी ।
==============
(मात्राएँ 16,14)

गरिमा त्याग मालिक शरण मे ,
समझ चमचागिरी थोडी ।
रूतबा ताप चमक दमक में ,
निति ज्ञान बने घोडी।।1

धरम करम नाम कमाना है ,
गो रक्षक की पदवी लो ।
दलित मारना पाप नही हैं ,
आजादी हक अपना लो।।2

आदर्श हमारा एक रहा है ।
हिन्दु राष्ट्र बनायेंगे ।
संविधान की ऐसी तैसी,
होली संग जलायेंगे।।3

चीरहरण का पाप देश में ,
मानवता कहलायेंगा।
नव निर्माण वही युग पुराना,
देश गुरू बन जायेगा ।4

सच्चाई मत बोल देश मे,
बेबूझ सुन मौत होगी ।
अंध मूढता पाठ सीख ले,
दादागिरी सफल होगी ।।5

जली असीमित आग जहन में,
शांत न जाने कब होगी।
रोज मरते सरीफ देश में ,
मानवता फिर कब होगी ।।6

छगन लाल गर्ग विज्ञ ।




10 comments:

  1. नमस्ते, आपकी यह प्रस्तुति "पाँच लिंकों का आनंद" ( http://halchalwith5links.blogspot.in ) में गुरूवार 09-11-2017 को प्रातः 4:00 बजे प्रकाशनार्थ 846 वें अंक में सम्मिलित की गयी है।
    चर्चा में शामिल होने के लिए आप सादर आमंत्रित हैं, आइयेगा ज़रूर। सधन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. सूचना (संशोधन) -

      नमस्ते, आपकी रचना के "पाँच लिंकों का आनन्द" ( http://halchalwith5links.blogspot.in) में प्रकाशन की सूचना
      9 -11 -2017 ( अंक 846 ) दी गयी थी।
      खेद है कि रचना अब रविवार 12-11 -2017 को 849 वें अंक में प्रातः 4 बजे प्रकाशित होगी। चर्चा के लिए आप सादर आमंत्रित हैं।




      हटाएं
  2. वाह !!बहुत खूब!!
    मानवता जिस दिन आएगी
    उस दिन धरती हर्षाएगी,
    फूल खिलेंगे प्रेम भाव के
    दुनिया सुखमय है जाएगी।




    उत्तर देंहटाएं
  3. वाह!!!!
    लाजवाब अभिव्यक्ति...

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget