HeaderLarge

नवीनतम रचनाएं

6/recent/ticker-posts

बच्चे की निगाह [कविता] - कृष्ण कुमार यादव

Photobucket

कभी देखो समाज को
बच्चे की निगाहों से
पल भर में रोना
पल भर में खिलखिलाना।

अरे! आज लड़ाई हो गई
शाम को दोनों गले मिल रहे हैं
एक दूसरे को चूम रहे हैं।

भीख का कटोरा लिए फिरते
बूढ़े चाचा की दशा देखी नहीं गई
माँ की नजरें चुराकर
अपने हिस्से की दो रोटियाँ
दे आता है उसे।

दीवाली है, ईद है
अपनी मंडली के साथ
मिठाइयाँ खाये जा रहा है
क्या फर्क पड़ता है
कौन हिन्दू है, कौन मुसलमां।

सड़क पर कुचल आता है आदमी
लोग देखते हुए भी अनजान हैं
पापा! पापा! गाड़ी रोको
देखो उन्हें क्या हो गया?

छत पर देखा
एक कबूतर घायल पड़ा है
उठा लाता है उसे
जख्मों पर मलहम लगाता है
कबूतर उन्मुक्त होकर उड़ता है।

बच्चा जोर से तालियाँ बजाकर
उसके पीछे दौड़ता है
मानों सारा आकाश
उसकी मुट्ठी में है।

एक टिप्पणी भेजें

21 टिप्पणियाँ

  1. bahut achha pryas hai
    kafi achha laga hai
    aisa laga hai puri imandari k sth likha gaya hai

    जवाब देंहटाएं
  2. खुशियों और गमों की साझेदारी ही एक मजबूत समाज की नींव डाल सकती है..बच्चों का भोलापन इसे बखूबी दर्शाता है.

    जवाब देंहटाएं
  3. पता नही क्यों ...............आदमी ऐसा ही क्यों नही रह पाता सारी उम्र.

    जवाब देंहटाएं
  4. वाह! सुबह बच्चों की आवाज और अब बच्चे की निगाह! बच्चे की मासूमियत को सामने लाती बहुत सुंदर रचना है.

    जवाब देंहटाएं
  5. बच्चा जोर से तालियाँ बजाकर
    उसके पीछे दौड़ता है
    मानों सारा आकाश
    उसकी मुट्ठी में है।

    बहुत अच्छी कविता, बधाई।

    जवाब देंहटाएं
  6. A very nice poem describing the thoughts of a little child about the people around him! Thanks!

    जवाब देंहटाएं
  7. समाज को बच्चे की निगाह से दिखाने की आपकी कोशिश सफल है।

    जवाब देंहटाएं
  8. बच्चे इसी लिये मन के सच्चे कहे जाते हैं। आपके दिखाये सारे दृश्य उनके मन की कोमलता ही बयान कर रहे हैं। एक बहुत अच्छी कविता की बधाई।

    जवाब देंहटाएं
  9. दीवाली है, ईद है
    अपनी मंडली के साथ
    मिठाइयाँ खाये जा रहा है
    क्या फर्क पड़ता है
    कौन हिन्दू है, कौन मुसलमां।

    सच हीं कहा गया है कि
    इंसां जब तक बच्चा है,
    समझो तब तक सच्चा है!

    बहुत सही और बहुत बड़ी बात लिखी है आपने।
    बधाई स्वीकारें!

    जवाब देंहटाएं
  10. दीवाली है, ईद है
    अपनी मंडली के साथ
    मिठाइयाँ खाये जा रहा है
    क्या फर्क पड़ता है
    कौन हिन्दू है, कौन मुसलमां।

    अच्छा लिखा है..आपने...अनवरत रहें.

    जवाब देंहटाएं
  11. poem that touches heart.

    Alok Kataria

    जवाब देंहटाएं
  12. बच्चों के माध्यम से समाज को आईना दिखाने की अच्छी कोशिश है। बधाई।

    जवाब देंहटाएं
  13. बाल सुलभ निर्दोषिता बहुत ही सहज रूप मे उजागर हुई।

    प्रवीण पंडित

    जवाब देंहटाएं
  14. बच्चा जोर से तालियाँ बजाकर
    उसके पीछे दौड़ता है
    मानों सारा आकाश
    उसकी मुट्ठी में है।


    बच्चे की मासूमियत को

    सामने लाती सुंदर रचना .....बधाई।

    जवाब देंहटाएं
  15. Atisundar kavita...jitni bhi tarif karen kam hai. kk Yadav ji ko Sadhuvad.

    जवाब देंहटाएं
  16. Yah kavita padhkar ek bar phir se bachha banane ki ji chahata hai...Yun hi likhte rahiye KK ji.

    जवाब देंहटाएं
  17. Im very Thankful for such nice comments..it gives me inspiration.
    Regards,
    KK Yadav.

    जवाब देंहटाएं
  18. कविता "बच्चे की निगाह" बड़ी समकालीन और प्रासंगिक लगी. बड़े सुन्दर भाव हैं-

    भीख का कटोरा लिए फिरते
    बूढ़े चाचा की दशा देखी नहीं गई
    माँ की नजरें चुराकर
    अपने हिस्से की दो रोटियाँ
    दे आता है उसे।

    दीवाली है, ईद है
    अपनी मंडली के साथ
    मिठाइयाँ खाये जा रहा है
    क्या फर्क पड़ता है
    कौन हिन्दू है, कौन मुसलमां।
    ....इस अनुपम प्रस्तुति हेतु बधाई.

    जवाब देंहटाएं
  19. Atisundar...Itni sundar kavitayen kaise likhte ho ap...kuchh hame bhi batao.

    जवाब देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

आइये कारवां बनायें...

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...