HeaderLarge

नवीनतम रचनाएं

6/recent/ticker-posts

लोग तो कुछ भी कहते हैं [काव्य-पाठ, स्वर- हरीश भीमानी] - देवमणि पांडेय


यद्यपि किसी काव्य-कृति को पढ़ना अपने आप में आनंददायक होता है, पर यह आनंद तब और भी बढ़ जाता है जब उस रचना को किसी के प्रभावशाली स्वर में सुनने का मौका मिले। इसी को ध्यान में रखते हुये हमने साहित्य शिल्पी पर रचना-पाठ सुनवाने के सिलसिले का आरंभ किया था।

अपनी आवाज़ से पहचाने जाने वाले श्री हरीश भीमानी के स्वर में इससे पहले भी हम देवमणि पांडेय की एक नज़्म "हर आँगन में दीप खुशी का" प्रस्तुत कर चुके हैं। इसी क्रम मे आइये आज सुनते हैं, साहित्य शिल्पी पर पूर्व-प्रकाशित गज़ल "लोग तो कुछ भी कहते हैं" :


एक टिप्पणी भेजें

7 टिप्पणियाँ

  1. अच्छी ग़ज़ल और हरीष जी की आवाज में - सोने पर सुहागा।

    जवाब देंहटाएं
  2. Thanks. Golden Vice.

    Alok Kataria

    जवाब देंहटाएं
  3. हरीष भिमानी की आवाज जादू है। अच्छा लगा।

    जवाब देंहटाएं
  4. आज भी भिमानी की आवाज का सानी नहीं। पाण्डेय जी अच्छी गज़ल है।

    जवाब देंहटाएं
  5. हरीश जी धन्यवाद इस सुन्दर रचना को इतनी उँचायी प्रदान करने के लिये। आपकी आवाज में अन्य रचनाओं की भी प्रतीक्षा रहेगी।

    जवाब देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

आइये कारवां बनायें...

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...