होली खेलें सिया की सखियाँ - स्व. शांति देवी वर्मा 

होली खेलें सिया की सखियाँ,
जनकपुर में छायो उल्लास....

रजत कलश में रंग घुले हैं, मलें अबीर सहास.
होली खेलें सिया की सखियाँ...

रंगें चीर रघुनाथ लला का, करें हास-परिहास.
होली खेलें सिया की सखियाँ...

एक कहे: 'पकडो, मुंह रंग दो, निकरे जी की हुलास.'
होली खेलें सिया की सखियाँ...

दूजी कहे: 'कोऊ रंग चढ़े ना, श्याम रंग है खास.'
होली खेलें सिया की सखियाँ...

सिया कहें: ' रंग अटल प्रीत का, कोऊ न अइयो पास.'
होली खेलें सिया की सखियाँ...

सियाजी, श्यामल हैं प्रभु, कमल-भ्रमर आभास.
होली खेलें सिया की सखियाँ...

'शान्ति' निरख छवि, बलि-बलि जाए, अमिट दरस की प्यास.
होली खेलें सिया की सखियाँ...

होली की हार्दिक शुभकामनायें


होली खेलें चारों भाई - स्व. शांति देवी वर्मा 

होली खेलें चारों भाई, अवधपुरी के महलों में...

अंगना में कई हौज बनवाये, भांति-भांति के रंग घुलाये.
पिचकारी भर धूम मचाएं, अवधपुरी के महलों में...

राम-लखन पिचकारी चलायें, भारत-शत्रुघ्न अबीर लगायें.
लखें दशरथ होएं निहाल, अवधपुरी के महलों में...

सिया-श्रुतकीर्ति रंग में नहाई, उर्मिला-मांडवी चीन्ही न जाई.
हुए लाल-गुलाबी बाल, अवधपुरी के महलों में...

कौशल्या कैकेई सुमित्रा, तीनों माता लेंय बलेंयाँ.
पुरजन गायें मंगल फाग, अवधपुरी के महलों में...

मंत्री सुमंत्र भेंटते होली, नृप दशरथ से करें ठिठोली.
बूढे भी लगते जवान, अवधपुरी के महलों में...

दास लाये गुझिया-ठंडाई, हिल-मिल सबने मौज मनाई.
ढोल बजे फागें भी गाईं,अवधपुरी के महलों में...

दस दिश में सुख-आनंद छाया, हर मन फागुन में बौराया.
'शान्ति' संग त्यौहार मनाया, अवधपुरी के महलों में...

होली की हार्दिक शुभकामनायें

काव्य की पिचकारी - आचार्य संजीव सलिल

रंगोत्सव पर काव्य की पिचकारी गह हाथ.
शब्द-रंग से कीजिये, तर अपना सिर-माथ

फागें, होरी गाइए, भावों से भरपूर.
रस की वर्षा में रहें, मौज-मजे में चूर.

भंग भवानी इष्ट हों, गुझिया को लें साथ
बांह-चाह में जो मिले उसे मानिए नाथ.

लक्षण जो-जैसे वही, कर देंगे कल्याण.
दूरी सभी मिटाइये, हों इक तन-मन-प्राण.
होली की हार्दिक शुभकामनायें

अबकी बार होली में - आचार्य संजीव सलिल

करो आतंकियों पर वार अबकी बार होली में.
न उनको मिल सके घर-द्वार अबकी बार होली में.

बना तोपोंकी पिचकारी चलाओ यार अब जी भर.
निशाना चूक न पाए, रहो गुलज़ार होली में.

बहुत की शांति की बातें, लगाओ अब उन्हें लातें.
न कर पायें घातें कोई अबकी बार होली में.

पिलाओ भांग उनको फिर नचाओ भांगडा जी भर.
कहो बम चला कर बम, दोस्त अबकी बार होली में.

छिपे जो पाक में नापाक हरकत कर रहे जी भर.
करो बस सूपड़ा ही साफ़ अब की बार होली में.

न मानें देव लातों के कभी बातों से सच मानो.
चलो नहले पे दहला यार अबकी बार होली में.

जहाँ भी छिपे हैं वे, जा वहीं पर खून की होली.
चलो खेलें 'सलिल' मिल साथ अबकी बार होली में.
होली की हार्दिक शुभकामनायें

इस होली पर कैसे, करलूं बातें साज की - योगेश समदर्शी 

अभी हरे हैं घाव,
कहां से लाऊं चाव,
नहीं बुझी है राख,
अभी तक ताज की

खून, खून का रंग,
देख-देख मैं दंग,
इस होली पर कैसे,
करलूं बातें साज की

उसके कैसे रंगू मैं गाल
जिसका सूखा नहीं रुमाल
उन भीगे होठों को कह दूं
मैं होली किस अंदाज की
इस होली पर कैसे,
करलूं बातें साज की

होली की हार्दिक शुभकामनायें

नाना नव रंगों को फिर ले आयी होली - महेन्द्र भटनागर 

नाना नव रंगों को फिर ले आयी होली,
उन्मत्त उमंगों को फिर भर लायी होली !

आयी दिन में सोना बरसाती फिर होली,
छायी, निशि भर चाँदी सरसाती फिर होली !

रुनझुन-रुनझुन घुँघरू कब बाँध गयी होली,
अंगों में थिरकन भर, स्वर साध गयी होली !

उर मे बरबस आसव री ढाल गयी होली,
देखो, अब तो अपनी यह चाल नयी हो ली !

स्वागत में ढम-ढम ढोल बजाते हैं होली,
होकर मदहोश गुलाल उड़ाते हैं होली !

होली की हार्दिक शुभकामनायें

रंग गुलाल लिये कर में निकली मतवाली टोली है - अजय यादव 

रंग गुलाल लिये कर में निकली मतवाली टोली है
ढोल की थाप पे पाँव उठे औ गूँज उठी फिर ’होली है’

कहीं फाग की तानें छिड़ती हैं कहीं धूम मची है रसिया की
गोरी के मुख से गाली भी लगती आज मीठी बोली है

बादल भी लाल गुलाल हुआ उड़ते अबीर की छटा देख
धरती पे रंगों की नदियाँ अंबर में सजी रंगोली है

रंगों ने कलुष जरा धोया जो रोक रहा था प्रेम-मिलन
मन मिलकर एकाकार हुये, प्राणों में मिसरी घोली है

सबके चेहरे इकरूप हुये, ’अजय’ न भेद रहा कोई
यूँ सारे अंतर मिट जायें तो हर दिन यारो होली है

होली की हार्दिक शुभकामनायें

का संग खेलूं मैं होरी - मोहिन्दर कुमार 

का संग खेलूं मैं होरी.. पिया गयल हैं विदेस रे

पीहर मा होती तो सखियों संग खेलती
झांकन ना दे बाहर अटारिया से
सासू का सख्त आदेस रे

का संग खेलूं मैं होरी.. पिया गयल हैं विदेस रे

लत्ता ना भावे मोको, गहना ना भावे
सीने में उठती है हूक रे
याद आवे पीहर की रंग से भीगी देहरिया
और गुलाल से रंगे मुख-केस रे

का संग खेलूं मैं होरी.. पिया गयल हैं विदेस रे

अंबुआ पे झुलना, सखियों की बतियां
नीर बहाऊं और सोचूं मैं दिन रतियां
पिया छोड के आजा ऐसी नौकरिया
जिसने है डाला सारा कलेस रे

का संग खेलूं मैं होरी.. पिया गयल हैं विदेस रे

होली की हार्दिक शुभकामनायें


बैगन जी की होली- कृष्ण कुमार यादव

टेढ़े-मेढ़े बैगन जी
होली पर ससुराल चले
बीच सड़क पर लुढ़क-लुढ़क
कैसी ढुलमुल चाल चले
पत्नी भिण्डी मैके में
बनी-ठनी तैयार मिलीं
हाथ पकड़ कर वह उनका
ड्राइंगरूम में साथ चलीं
मारे खुशी, ससुर कद्दू
देख बल्लियों उछल पड़े
लौकी सास रंग भीगी
बैगन जी भी फिसल पड़े
इतने में उनकी साली
मिर्ची जी भी टपक पड़ीं
रंग भरी पिचकारी ले
जीजाजी पर झपट पड़ीं
बैगन जी गीले-गीले
हुए बैगनी से पीले।
होली की हार्दिक शुभकामनायें

रंग रंगीली आई होली - सीमा सचदेव 

नन्ही गुड़िया माँ से बोली
माँ मुझको पिचकारी ले दो
इक छोटी सी लारी ले दो
रंग-बिरंगे रंग भी ले दो
उन रंगों में पानी भर दो
मैं भी सबको रग डालूँगी
रंगों के संग मज़े करूँगी
मैं तो लारी में बैठूँगी
अन्दर से गुलाल फेंकूँगी
माँ ने गुड़िया को समझाया
और प्यार से यह बतलाया
तुम दूसरो पे रंग फेंकोगी
और अपने ही लिए डरोगी
रँग नहीं मिलते है अच्छे
हुए बीमार जो इससे बच्चे
तो क्या तुमको अच्छा लगेगा
जो तुम सँग कोई न खेलेगा
जाओ तुम बगिया मे जाओ
रंग- बिरंगे फूल ले आओ
बनाएँगे हम फूलों के रन्ग
फिर खेलना तुम सबके संग
रंगों पे खरचोगी पैसे
जोड़े तुमने जैसे तैसे
उसका कोई उपयोग न होगा
उलटे यह नुकसान ही होगा
चलो अनाथालय में जाएँ
भूखे बच्चों को खिलाएँ
आओ उन संग खेले होली
वो भी तेरे है हमजोली
जो उन संग खुशियाँ बाँटोगी
कितना बड़ा उपकार करोगी
भूखा पेट भरोगी उनका
दुनिया में नहीं कोई जिनका
वो भी प्यारे-प्यारे बच्चे
नन्हे से है दिल के सच्चे
अब गुड़िया को समझ में आई
उसने भी तरकीब लगाई
बुलाएगी सारी सखी सहेली
नहीं जाएगी वो अकेली
उसने सब सखियों को बुलाया
और उन्हें भी यह समझाया
सबने मिलके रंग बनाया
बच्चों सँग त्योहार मनाया
भूखों को खाना भी खिलाया
उनका पैसा काम में आया
सबने मिलकर खेली होली
और सारे बन गए हमजोली

होली की हार्दिक शुभकामनायें

सांझ से ही आ बैठी - प्रवीण पंडित

मन मे भर उल्लास,मुट्ठियां भर भर रंग लिये
सांझ से ही आ बैठी, होली मादक गंध लिये

एक हथेली मे चुटकी भर ठंडा सा अहसास
दूजे हाथ लिये किरची भर नरम धूप सौगात
उजियारे के रंग पूनमी मटियाली बू-बास
भीगे मौसम की अंगड़ाई लेकर आई पास

अल्हड़-पन का भाव सुकोमल पूरे अंग लिये
सांझ से ही आ बैठी होली मादक गंध लिये

लहरों से लेकर हिचकोले,पवन से अठखेली
चौखट-चौखट बजा मंजीरे, फिरती अलबेली
कहीं से लाई रंग केसरी, कहीं से कस्तूरी
लाजलजीली हुई कहीं पर खुल कर भी खेली

नयन भरे कजरौट अधर भर भर मकरंद लिये
सांझ से ही आ बैठी ,होली मादक गंध लिये

होली की हार्दिक शुभकामनायें

फागुन बनकर - शोभा महेन्द्रू

बरस गए हैं मेरी आँखों में
हज़ारों सपने
महकने लगे हैं टेसू
और मन
बावला हुआ जाता है

सपनों की कलियाँ
दिल की हर डाल पर
फूट रही है
और ये उपवन
नन्दन हुआ जाता है

समझ नहीं पा रही हूँ
ये तुम हो या मौसम
जो बरसा है
मुझपर
फागुन बनकर

होली की हार्दिक शुभकामनायें

जस्न जारी... - धीरेन्द्र सिंह "काफ़िर"

पतझड़ में पत्ते
साखें छोड़ देते हैं
सदाबहार
जब आता है
तो बहार
जवाँहोती है

हम भी कुछ
इसीतरह से
जश्न जारी
रखते हैं
मातम भी मनाते हैं
अपने-अपने

इन पेड़-पौधों जैसा नहीं
कुछ भी साथ-साथ नहीं

दिवाली में
पटाखे जलाए
उजाला मचाया

होली में रंग गए
रंग उडाये

मगर रूह में वही
पुराना अँधेरा
वही कालिख ........

होली की हार्दिक शुभकामनाएं! ज़मीं-आसमां हर जगह रंग उडाएं, गुलाल की होली खेलें, पानी बचाएँ एवं एक विनम्र निवेदन है कि नहाते समय अपने मन की कालिख जरूर धोएं, प्यार का प्रकाश एक दो घूँट जरूर पियें.............
होली की हार्दिक शुभकामनायें

23 comments:

  1. एक दो घूँट जरूर पियें
    रंगों के पर्व होली पर आपको ढेरो शुभकामनाए ...

    जवाब देंहटाएं
  2. इतने सारे गीत कविताएँ पढ़वाकर होली कवितामय कर दी।
    होली की शुभकामनाएँ !
    घुघूती बासूती

    जवाब देंहटाएं
  3. होली की शुभकामनायें। कविताओं नें समाँ बाँध दिया। शांति जी के भजन अच्छे लगे।

    जवाब देंहटाएं
  4. होली एक
    कवि अनेक
    पी रहे हैं सब
    कविताओं के पैग
    जिनमें नहीं भंग है
    पर भावतरंग है
    कवि सभी अनमोल
    पर कविताओं का नहीं
    रहा है कोई मोल।

    मंच पर ही हैं
    बिकती सब कविताएं
    कविता भी वहीं
    बिकते हैं बौराय
    पीकर सुरा
    सब कविता सुनायं
    लिफाफा पकड़
    हैं दौड़ जायं।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. बात कही तुमने सच में प्रिय बात कही बहुत कही तुमने सच में प्रिय बात कही होली का ना रंगे पुराना होली का नायब रंग पुराना होली गाना नंगे पुराना होली में सब बेकार भई होली हे सच्चे प्यार की होली ना प्यार कहो ना प्यार कहो होली होली होली होली होली होली होली होली होली होली होली होली होली है

      हटाएं

    2. नन्ही गुड़िया माँ से बोली
      माँ मुझको पिचकारी ले दो
      इक छोटी सी लारी ले दो
      रंग-बिरंगे रंग भी ले दो
      उन रंगों में पानी भर दो
      मैं भी सबको रग डालूँगी
      रंगों के संग मज़े करूँगी
      मैं तो लारी में बैठूँगी
      अन्दर से गुलाल फेंकूँगी
      माँ ने गुड़िया को समझाया
      और प्यार से यह बतलाया
      तुम दूसरो पे रंग फेंकोगी
      और अपने ही लिए डरोगी
      रँग नहीं मिलते है अच्छे
      हुए बीमार जो इससे बच्चे
      तो क्या तुमको अच्छा लगेगा
      जो तुम सँग कोई न खेलेगा
      जाओ तुम बगिया मे जाओ
      रंग- बिरंगे फूल ले आओ
      बनाएँगे हम फूलों के रन्ग
      फिर खेलना तुम सबके संग
      रंगों पे खरचोगी पैसे
      जोड़े तुमने जैसे तैसे
      उसका कोई उपयोग न होगा
      उलटे यह नुकसान ही होगा
      चलो अनाथालय में जाएँ
      भूखे बच्चों को खिलाएँ
      आओ उन संग खेले होली
      वो भी तेरे है हमजोली
      जो उन संग खुशियाँ बाँटोगी
      कितना बड़ा उपकार करोगी
      भूखा पेट भरोगी उनका
      दुनिया में नहीं कोई जिनका
      वो भी प्यारे-प्यारे बच्चे
      नन्हे से है दिल के सच्चे
      अब गुड़िया को समझ में आई
      उसने भी तरकीब लगाई
      बुलाएगी सारी सखी सहेली
      नहीं जाएगी वो अकेली
      उसने सब सखियों को बुलाया
      और उन्हें भी यह समझाया
      सबने मिलके रंग बनाया
      बच्चों सँग त्योहार मनाया
      भूखों को खाना भी खिलाया
      उनका पैसा काम में आया
      सबने मिलकर खेली होली
      और सारे बन गए हमजोली

      हटाएं
  5. बहुत खूब होली सजाई है आपने. कविताओं का हार सबके गले में डाला दिया. इतनी सुंदर प्रस्तुति के लिए आपका आभार. और सभी लेखकों को होली की हार्दिक शुभकामनाएँ

    जवाब देंहटाएं
  6. शांति जी के भजन से -

    शान्ति' निरख छवि, बलि-बलि जाए, अमिट दरस की प्यास.
    होली खेलें सिया की सखियाँ...

    होली खेलें चारों भाई, अवधपुरी के महलों में...

    हमारी समृद्ध परंपरा का अहसास होता है।

    ***********

    सलिल जी नें गहरे रंग प्रस्तुत किये हैं:-

    करो आतंकियों पर वार अबकी बार होली में.
    न उनको मिल सके घर-द्वार अबकी बार होली में.

    ************

    योगेश जी अपने संदर्भ गंभीरता से रखते हैं -

    उसके कैसे रंगू मैं गाल
    जिसका सूखा नहीं रुमाल
    उन भीगे होठों को कह दूं
    मैं होली किस अंदाज की
    इस होली पर कैसे,
    करलूं बातें साज की

    **************

    महेन्द्र जी नें तो होली के चित्र खींच दिये हैं-

    नाना नव रंगों को फिर ले आयी होली,
    उन्मत्त उमंगों को फिर भर लायी होली !

    ***************

    अजय जी रंगों से कलुष धोने निकल पडे हैं -

    रंगों ने कलुष जरा धोया जो रोक रहा था प्रेम-मिलन
    मन मिलकर एकाकार हुये, प्राणों में मिसरी घोली है

    ***************

    मोहिन्दर जी विरह का रंग ले आये हैं -

    का संग खेलूं मैं होरी.. पिया गयल हैं विदेस रे

    अंबुआ पे झुलना, सखियों की बतियां
    नीर बहाऊं और सोचूं मैं दिन रतियां
    पिया छोड के आजा ऐसी नौकरिया
    जिसने है डाला सारा कलेस रे

    ***************

    कृष्ण कुमार जी तो बच्चों पर रंग डाल रहे हैं -

    रंग भरी पिचकारी ले
    जीजाजी पर झपट पड़ीं
    बैगन जी गीले-गीले
    हुए बैगनी से पीले।

    ***************

    सीमा सचदेव जी सच्ची बाल-साहित्यकार हैं। कविता में संदेश न हो एसा कैसे हो सकता है -

    सबने मिलके रंग बनाया
    बच्चों सँग त्योहार मनाया
    भूखों को खाना भी खिलाया
    उनका पैसा काम में आया
    सबने मिलकर खेली होली
    और सारे बन गए हमजोली

    **************

    प्रवीण पंडित जी नें भी मन को छूने वाले गीत से फाग खेला है -

    लहरों से लेकर हिचकोले,पवन से अठखेली
    चौखट-चौखट बजा मंजीरे, फिरती अलबेली
    कहीं से लाई रंग केसरी, कहीं से कस्तूरी
    लाजलजीली हुई कहीं पर खुल कर भी खेली

    नयन भरे कजरौट अधर भर भर मकरंद लिये
    सांझ से ही आ बैठी ,होली मादक गंध लिये

    ***************

    शोभा महेन्द्रू जी का चिर परिचित अंदाज बेहद आकर्षक रंग बिखेर रहा है -

    समझ नहीं पा रही हूँ
    ये तुम हो या मौसम
    जो बरसा है
    मुझपर
    फागुन बनकर

    *************

    धीरेंद्र सिंह जी की बात भी ध्यान देने योग्य है -

    होली में रंग गए
    रंग उडाये

    मगर रूह में वही
    पुराना अँधेरा
    वही कालिख ........

    **************

    होली की शुभकामनायें।

    जवाब देंहटाएं
  7. कविताओं का बहुत अच्छा संग्रह है। होली की शुभकामनायें।

    जवाब देंहटाएं
  8. सभी गीत और कवितायें अच्छी हैं। होली का आपनें माहौल बना दिया बधाई पर्व की।

    जवाब देंहटाएं
  9. होली के पर्व पर रंगारंग प्रस्तुति के लिये
    आपको
    तथा एक-से-एक बढ़
    एक रचना देने वाले कवियों को होली की बहुत-बहुत बधाई.

    जवाब देंहटाएं
  10. होली पर लिखी सभी कविताएँ बहुत सुन्दर लगीं। होली की सभी को शुभकामनाएँ।

    जवाब देंहटाएं
  11. होली की शुभकामनाएँ सभी कविताएँ बहुत सुन्दर लगीं।

    जवाब देंहटाएं
  12. ये लो हम हुरियारे भी आ गए होली की शुभकामनायें लेकर....कबीरा...स..र..र..र...

    जवाब देंहटाएं
  13. बढ़िया होली संकलन!!

    आपको होली की मुबारकबाद एवं बहुत शुभकामनाऐं.
    सादर
    समीर लाल

    जवाब देंहटाएं
  14. के.के. भाई को होली पर चढ़ गई खूब भांग !
    बैठे लिखने तो लिख बैठे होली का इतिहास !!
    साहित्यशिल्पी वाले के.के.जी को छापें बारम्बार !
    होली पर सब फगुआ गायें, करें खूब धमाल !!
    .......कबीरा...स..र..र..र......

    जवाब देंहटाएं
  15. साहित्यकारों की भावनाओं के रंगों से रंगी होली देखकर बहुत अच्छा लगा |
    सबको होली की शुभ-कामनाएं

    जवाब देंहटाएं
  16. GOPAL DAS NEERAJ,SHANTI DEVI VERMA,
    SANJEEV SALIL,MOHINDAR BHATNAGAR,
    YOGESH SAMDARSHEE,SEEMA SACHDEV,
    PRAVEEN PANDIT,KRISHNA KUMAR YAADAV,AJAY YAADAV,SHOBHA MAHENDRU
    AUR DHIRENDRA SINGH KEE HOLI PAR
    RANG-BIRANGEE KAVITAYEN PADH KAR
    AANAND AA GAYAA HAI.SABKO SHUBH
    KAMNAYEN.

    जवाब देंहटाएं
  17. wah ye hui na holi ke rang main puri tarah rang gaye hain sab

    sabko bahut bahut subhkamanye holi ki

    Ye holi sabke dilon mein pyaar ke rang bhar de yahi prathna rahegi

    जवाब देंहटाएं
  18. aap sabhi ko holi ki bahut sari subhakamnay. HAPPY HOLLY
    .[PRADEEP KUMAR YADAV

    जवाब देंहटाएं
  19. "होली आई बोल !"
    --------------------
    मौसम ने अंगड़ाई ली
    मन में मादकता छाई री
    बहक रहा यौवन जी जी
    बोलो होली आई है |
    कलियों ने घूँघट खोले
    भेद-भाव ताखे रख बोले
    जाम मुहब्बत छलक आई
    बोलो होली आई है |
    पिता -पुत्र संग खेलत होली
    भाभी गोझिया बनाई है
    साली जेवना परोसने आई
    बोलो होली आई है |
    घूमत चारो तरफ पर्चा
    रंग डलवावे के हौ न्योता
    सरहज आके बोलाई
    बोलो होली आई है | |
    गूगल अनुबाद -
    "Holy Mother Bol!"
    The weather took place
    Drunkenness in mind
    Jaovan ji ji
    Speak Holi.
    Buds opened the veil
    Keep silence
    Jam mohabbat chil came
    Speak Holi.
    Holi playing with father-son
    Sister in law has made
    Year-old dinner served
    Speak Holi.
    Surround Surround Form
    Color invitation
    Sarjaj ake baulai
    Speak Holi. |

    जवाब देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Get widget