क्या लिखूँ.. कैसे लिखूँ...
लिखना मुझे आता नहीं...
टीवी की झकझक..
रेडियो की बकबक..
मोबाईल में एम.एम.एस..
कुछ मुझे भाता नहीं
भडास दिल की...
कब शब्द बन उबल पडती है
टीस सी दिल में..
कब उभर पडती है...
कुछ पता नहीं

रचनाकार परिचय:-


राजीव तनेजा की हास्य-व्यंग्य पढ़ने और लिखने में विशेष रुचि है। वे बी कॉम करने के बाद दिल्ली में रैडीमेड दरवाज़े और खिड़कियों का व्यवसाय करते हैं। इनकी कुछ कहानियाँ तथा व्यंग्य रचनाएँ प्रकाशित हैं। 'हँसते रहो' नाम के एक लोकप्रिय चिट्ठा भी ये चला रहे हैं।


सोने नहीं देती है ..
दिल के चौखट पे..
ज़मीर की ठक ठक
उथल-पुथल करते..
विचारों के जमघट
जब बेबस हो..तमाशाई हो..
देखता हूँ अन्याय हर कहीं
फेर के सच्चाई से मुँह..
कभी हँस भी लेता हूँ
ज़्यादा हुआ तो..
मूंद के आँखे...
ढाँप के चेहरा...
पलट भाग लेता हूँ कहीं
आफत गले में फँसी
जान पडती है मुझको
कुछ कर न पाने की बेबसी...
जब विवश कर देती मुझको..

असमंजस के ढेर पे बैठा
मैँ 'नीरो' बन बाँसुरी बजाऊँ कैसे
क्या करूँ...कैसे करूँ...
कुछ सूझे न सुझाए मुझे...
बोल मैँ सकता नहीं
विरोध कर मैँ सकता नहीं
आज मेरी हर कमी...
बरबस सताए मुझको

उहापोह त्याग...कुछ सोच ..
लौट मैँ फिर
डर से भागते कदम थाम लेता हूँ ...
उठा के कागज़-कलम...
भडास दिल की...
कागज़ पे उतार लेता हूँ
ये सोच..खुश हो
चन्द लम्हे. ..
खुशफहमी के भी कभी
जी लेता हूँ मैँ कि..
होंगे सभी जन आबाद
कोई तो करेगा आगाज़
आएगा इंकलाब यहीं..
हाँ यहीँ...हाँ यहीँ

सच..
लिखना मुझे आता नहीं...
फिर भी कुछ सोच..
भडास दिल की...
कागज़ पे उतार लेता हूँ मैँ"

6 comments:

  1. अच्छी रचना प्रक्रिया है आपकी राजीव जी। बहुत अच्छी कविता।

    उत्तर देंहटाएं
  2. राजीव जी आपकी पहली कविता पढी। व्यंग्य की तरह आप कविता भी अच्छी कर सकते हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  3. न आने पर तो
    लिख देते हो बल्कि
    उधेड़ देते हो
    लिखना आता तो
    फिर पीस ही देते
    कर देते पीस पीस
    देता रहता ऐसा
    सदा ही गहरी टीस।

    उत्तर देंहटाएं
  4. क्या लिखूँ.. कैसे लिखूँ...
    लिखना मुझे आता नहीं...
    टीवी की झकझक..
    रेडियो की बकबक..
    मोबाईल में एम.एम.एस..
    कुछ मुझे भाता नहीं
    भडास दिल की...
    कब शब्द बन उबल पडती है
    टीस सी दिल में..
    कब उभर पडती है...

    वैसे अपन भी एसे ही लिखते हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  5. सबका यही हाल है राजीव जी... हा कुछ भडास दूसरी भडासों से अधिक प्रसिद्धि पा जाती हैं

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Get widget