HeaderLarge

नवीनतम रचनाएं

6/recent/ticker-posts

झोंपड़ी में सूर्य-देवता [कविता] - सीमा सचदेव



रचनाकार परिचय:-


2 अक्टूबर, 1974 को पंजाब के अबोहर मे जन्मी सीमा सचदेव पेशे से हिन्दी-अध्यापिका हैं।

इनकी कई रचनाये जैसे-"मेरी आवाज़ भाग-१,२", "मानस की पीड़ा", "सन्जीवनी", "आओ सुनाऊं एक कहानी", "नन्ही कलियाँ" आदि विभिन्न अंतर्जाल पत्रिकाओ मे प्रकाशित हैं। "आओ गाएं" नामक रचना-संकलन ई-पुस्तक के रूप में प्रकाशित हैं।

पुल के नीचे
सड़क के बाजु में
तीलो की झोंपड़ी के अंदर
खेलते.............
दो बूढ़े बच्चे
एक नग्न और
दूजा अर्ध-नग्न
दीन-दुनिया से बेख़बर

ललचाई नज़रों से
देखते.........
फल वाले को
आने-जाने वाले को
हाथ फैलाते.....
कुछ भी पाने को
फल,कपड़े,जूठन,खाना
कुछ भी.........
सरकारी नल उनका
गुस्लखाना
और रेलवे -लाइन.....पाखाना
चेहरे पर उनके केवल अभाव
सर्दी-गर्मी का उन पर
नहीँ कोई प्रभाव

अकेले हैं बिल्कुल
कुछ भी तो नहीँ
उनके अपने पास
नहीँ करते वे किसी से
हस्स कर बात
और झोंपड़ी से
झाँकता सूर्य देवता
मानो दिला रहा हो
अहसास........
कोई हो न हो
लेकिन
मैं तो हूँ
और हमेशा रहूँगा
तुम्हारे साथ
तब तक............
जब तक है
तुम्हारा जीवन

यह झोंपड़ी
और ग़रीबी का नंगा नाच.........

टिप्पणी पोस्ट करें

14 टिप्पणियां

  1. संवेदना से भरी रचना। बहुत प्रभाव छोडने वाली कविता।

    जवाब देंहटाएं
  2. और झोंपड़ी से
    झाँकता सूर्य देवता
    मानो दिला रहा हो
    अहसास........
    कोई हो न हो
    लेकिन
    मैं तो हूँ
    और हमेशा रहूँगा
    तुम्हारे साथ

    कविता नें मन को छू लिया।

    जवाब देंहटाएं
  3. इस टिप्पणी को लेखक ने हटा दिया है.

    जवाब देंहटाएं
  4. अंग्रेजी में कहते हैं , "best things in life are free " | जैसे कि सूर्य की किरणें , पंछियों का चहचहाना , हवा ,( कुछ समय पहले तक पानी भी था , अब नहीं है ) | प्रकृति/धरती को शायद इस लिए ही माँ कहा गया है ... वो भेद भाव नहीं करती .. जो है सब को बराबर बाँट देती है | रूखी रोटी हो या पकवान ... गंगा का पानी हो ओजोन परत से आती पराबैंगनी किरनें .. :-) इसी मातृत्व की भावना को चरितार्थ किया इस कविता में सूर्य के वर्णन से आप ने | वही पसंद भी आया मुझे .. बाकी सब तो देखा सुना है ...:-) बधाई ...

    जवाब देंहटाएं
  5. Samvedansheel Rachnaa....gareebi ek kaduaa saty hai...... Subdar kavita

    जवाब देंहटाएं
  6. चंदेल जी आप ने कविता का सुन्दर चयन किया है आप को और कवी को बधाई

    जवाब देंहटाएं
  7. नग्‍त सत्‍य को दर्शाती हुई कविता।
    सीमा जी को बहुत बहुत बधाई।
    -Zakir Ali ‘Rajnish’
    { Secretary-TSALIIM & SBAI }

    जवाब देंहटाएं
  8. अहसास........
    कोई हो न हो
    लेकिन
    मैं तो हूँ
    और हमेशा रहूँगा
    तुम्हारे साथ
    संवेदना से भरी रचना।

    जवाब देंहटाएं
  9. seemaji,
    sabse pahle toh abohar ko sri ganganagar ki raam-raam

    tadopraant aapko badhaai is aalatareen kavita k liye.....
    daridra bacchon ki daaruna dashaa aur surya k maadhyam se prakriti ke udaar bhaav ko vyakt karti ye kavita atyant maarmik aur abhinav rachna hai..
    BADHAAI
    BADHAAI

    जवाब देंहटाएं
  10. bahut sanvedansheel aur sarthak rachna ke liye badhai sweekar karen

    जवाब देंहटाएं
  11. अकेले हैं बिल्कुल
    कुछ भी तो नहीँ
    उनके अपने पास
    नहीँ करते वे किसी से
    हस्स कर बात
    और झोंपड़ी से
    झाँकता सूर्य देवता
    मानो दिला रहा हो
    अहसास........
    कोई हो न हो
    लेकिन
    मैं तो हूँ
    और हमेशा रहूँगा
    तुम्हारे साथ
    marmsparshi abhivyakti.. Dhirendra Acharya

    जवाब देंहटाएं
  12. अकेले हैं बिल्कुल
    कुछ भी तो नहीँ
    उनके अपने पास
    नहीँ करते वे किसी से
    हस्स कर बात
    और झोंपड़ी से
    झाँकता सूर्य देवता
    मानो दिला रहा हो
    अहसास........
    कोई हो न हो
    लेकिन
    मैं तो हूँ
    और हमेशा रहूँगा
    तुम्हारे साथ
    marmsparshi abhivyakti.. Dhirendra Acharya

    जवाब देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

आइये कारवां बनायें...

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...