HeaderLarge

नवीनतम रचनाएं

6/recent/ticker-posts

मुनगे का पेड़ [कविता] - त्रिजुगी कौशिक

घर की बाड़ी में
मुनगे क एक पेड़ है
वह गाहे-बगाहे की साग
प्रसूता के लिए तो पकवान है

मकान बनाने के लिए उसे काटना था
पर किसी की हिम्मत नहीं
उसमें बसी हैं
माँ की स्मृतियाँ
जैसे नीम्बू के पेड़ में दीदी की
पिताजी की-- तालाब में लगाए
बड़ में
नतमस्तक हो जाता है हर कोई
उसी तरह
नीम्बू मुनगे का यह पेड़ है

पहले हम खेतों को
पेड़ों की वज़ह से पहचानते थे
हमारा बचपन गुज़रता था
आम, इमली, अमरूद, जाम के पेड़ों में
अब जिस तरह कट रहे हैं पेड़
स्मृतियाँ कट रही हैं
बदलता जा रहा है गाँव
भूलता जा रहा है गाँव ।

*****
रचनाकार परिचय:-
त्रिजुगी कौशिक वरिष्ठ कवि हैं। वर्तमान में आप जन संपर्क विभाग में कार्यरत तथा रायपुर में अवस्थित हैं।

टिप्पणी पोस्ट करें

6 टिप्पणियां

  1. सामयिक त्रासदी को उद्घाटित करती मर्मस्पर्शी रचना.

    दिव्यनर्मदा.ब्लागस्पाट.कॉम

    जवाब देंहटाएं
  2. पहले हम खेतों को
    पेड़ों की वज़ह से पहचानते थे
    हमारा बचपन गुज़रता था
    आम, इमली, अमरूद, जाम के पेड़ों में
    अब जिस तरह कट रहे हैं पेड़
    स्मृतियाँ कट रही हैं
    बदलता जा रहा है गाँव
    भूलता जा रहा है गाँव

    गंभीर और हृदय स्पर्शी कविता है।

    जवाब देंहटाएं
  3. कविता में प्रकृति और पर्यावंरण के प्रति चिंता दिखायी पडती है।

    जवाब देंहटाएं
  4. स्मृतियाँ कट रही हैं
    बदलता जा रहा है गाँव
    भूलता जा रहा है गाँव

    सच कहा आपने...

    जवाब देंहटाएं
  5. गहरे मनोभाव लिये हुये है यह रचना. बढती आबादी और जरूरतें बहुत कुछ लील रही हैं

    जवाब देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

आइये कारवां बनायें...

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...