HeaderLarge

नवीनतम रचनाएं

6/recent/ticker-posts

ज़माने में बिना मतलब के मतलब कौन रखता है [ग़ज़ल] - दीपक गुप्ता

ज़माने में बिना मतलब के मतलब कौन रखता है
किसी के ज़ख्म पे मरहम भला अब कौन रखता है

वो इक विश्वास ही तो है उसे मानो न मानो
फ़लक पर ये उजाला और ये शब् कौन रखता है

ये मेरी ज़िन्दगी के रास्तों पे उलझनें हर पल
मैं तुझसे पूछता हूँ तू बता रब, कौन रखता है

मेरा महबूब है या उसका,साया या भरम है बस
मेरी पलकों पे आकर ख्वाब में लब कौन रखता है

मुसाफिर रास्ता भटके नहीं ये सोचकर यारो
अँधेरी राह में जलता दिया अब कौन रखता है

एक टिप्पणी भेजें

6 टिप्पणियाँ

  1. लाजवाब gazal है........... हर sher kamaal का ............

    जवाब देंहटाएं
  2. ज़माने में बिना मतलब के मतलब कौन रखता है
    किसी के ज़ख्म पे मरहम भला अब कौन रखता है
    बहुत खूब।

    जवाब देंहटाएं
  3. Just install Add-Hindi widget button on your blog. Then u can easily submit your pages to all top Hindi Social bookmarking and networking sites.

    Hindi bookmarking and social networking sites gives more visitors and great traffic to your blog.

    Click here for Install Add-Hindi widget

    जवाब देंहटाएं
  4. बहुत अच्छी ग़ज़ल है दीपक जी, बधाई।

    जवाब देंहटाएं
  5. मेरा महबूब है या उसका,साया या भरम है बस
    मेरी पलकों पे आकर ख्वाब में लब कौन रखता है

    sandeh alankar.

    जवाब देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

आइये कारवां बनायें...

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...