HeaderLarge

नवीनतम रचनाएं

6/recent/ticker-posts

डाक टिकट और स्क्रीन सेवर [सप्ताह का कार्टून] - अभिषेक तिवारी


----------
रचनाकार परिचय:-
अभिषेक तिवारी "कार्टूनिष्ट" ने चम्बल के एक स्वाभिमानी इलाके भिंड (मध्य प्रदेश्) में जन्म पाया। पिछले २३ सालों से कार्टूनिंग कर रहे हैं। ग्वालियर, इंदौर, लखनऊ के बाद पिछले एक दशक से जयपुर में राजस्थान पत्रिका से जुड़ कर आम आदमी के दुःख-दर्द को समझने की और उस पीड़ा को कार्टूनों के माध्यम से साँझा करने की कोशिश जारी है.....

टिप्पणी पोस्ट करें

7 टिप्पणियां

  1. सही बात है...कुछ दिन बाद ये कंप्यूटरी बच्चे डाक व डाकू के बीच शायद ही अंतर कर पाएं

    जवाब देंहटाएं
  2. अजी बात कुछ हजम नहीं हुई. लगता है आप बस पुराने डाक-टिकटों के बारे में जानते हैं, आज के बच्चों में क्रेज पैदा करने वाले खुशबूदार डाक -टिकटों व सोने के डाक-टिकटों के बारे में नहीं पढ़ा...नहीं तो कुछ धांसू कार्टून बनाते.

    जवाब देंहटाएं
  3. कुछ समय बाद डाक टिकट देखने के लिये किसी संग्रहालय ही जाना पडेगा

    जवाब देंहटाएं
  4. waakai....maine to ek daak ticket (jo mere gaanv par based hai) ko wallpaper hi bana kar rakha hua hai....Original abhi tak dekha nahi.

    dhanyawaad,
    vishwa deepak

    जवाब देंहटाएं
  5. Abhishekji ne bhavishya ka aaina dikhaya hai,mobile,e-mail,fax ke is yug me Dak-Ticket se nai pidhi jyada achchhe se parichit nahi hai.Rajeev Saxena,Katni.

    जवाब देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

आइये कारवां बनायें...

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...