HeaderLarge

नवीनतम रचनाएं

6/recent/ticker-posts

चंद्रमा पर पानी [सप्ताह का कार्टून] - अभिषेक तिवारी


----------
रचनाकार परिचय:-
अभिषेक तिवारी "कार्टूनिष्ट" ने चम्बल के एक स्वाभिमानी इलाके भिंड (मध्य प्रदेश्) में जन्म पाया। पिछले २३ सालों से कार्टूनिंग कर रहे हैं। ग्वालियर, इंदौर, लखनऊ के बाद पिछले एक दशक से जयपुर में राजस्थान पत्रिका से जुड़ कर आम आदमी के दुःख-दर्द को समझने की और उस पीड़ा को कार्टूनों के माध्यम से साँझा करने की कोशिश जारी है.....

एक टिप्पणी भेजें

7 टिप्पणियाँ

  1. वेसे भी वास्तविकता के दर्द को जबतक कुची सामने नहीं लाकर रखती पूर्णतया फिर उसमे मजा नहीं आता और उसमे भी कार्टून की जहां तक बात की जाये तो यह और भी मुश्किल काम होता है क्युनके इसमें आप बहुत ही कम लकीरें खीच कर सब कुछ दिखाने के लिए बाध्य होते है जैसे के हमारे ग़ज़ल लेखन में छोटी बह'र की ग़ज़ल के साथ हमें पूर्णतया सभी चीजो का ख़याल रखना पड़ता है ... इनकी कुची ने भी वही सब कुछ किया है बहुत पसंद आया यह कार्टून...आभार और बधाई भी


    अर्श

    जवाब देंहटाएं
  2. मधु, मुंबई।4 अक्तूबर 2009 को 4:52 pm

    बहुत बढि़या अभिषेकजी। आभार और बधाई एक साथ।

    जवाब देंहटाएं
  3. धरती पर तो पानी रहा नहीं चांद से इम्पोर्ट ही सही

    जवाब देंहटाएं
  4. सच में अभिषेक जी

    आज़ादी के इतने दिनों बाद भी हमारी महिलाओं को पानी चाँद से ही लाना पड़ता है ......

    वाह ..... ! मर्म और व्यंग्य का अनूठा सम्मिश्रण

    जवाब देंहटाएं
  5. dharti par to pani bhut ganda hi chuka hai , ab saph pani ke liye to chand par hi jana pdega kyoki vhan pani men milavt krne vala abhi tak koi to nhin hai .

    जवाब देंहटाएं
  6. धीरे धीर इंसान चंद्रमा पर भी पांव पसार रहा है...वहां भी पानी जल्द ही खत्म हो जायेगा ;)

    जवाब देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

आइये कारवां बनायें...

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...