जीवन के शेष वर्षों में से बंद मुठ्ठी में फंसी रेत की तरह आज एक और वर्ष फिसल गया. गढ़्चिरौली में नक्सली गुटों द्वारा मारे गये 17 पुलिसवालों के रोते विलखते परिवारॊं ... तथा टी वी पर छिड़ी नक्सल आंदोलन के पक्ष विपक्ष में बहस से आहत मन को चारो ओर पांव पसारते आतंक के वर्तमान परिवेश में मित्रों ... से मिली जन्मदिवस की शुभकामनायें कोई उत्साह न जगा सकी. उससे भी कहीं अधिक पिछले दिनों स्कूल के बच्चों में आतंकवाद पर छिड़ी बह्स में एक बच्चे के शब्द “ ...... मेरे पूर्वजों ने मेरे पीछे की पीढ़ी को एक शांत वातावरण दिया .. किन्तु आज हमारे अभिभावक समाज ने हमें चारों ओर आतंक की चीख पुकार क्यों दी है ....... यथार्थ में आतंकवाद का दोषी कौन ... क्या वो हाथ जिन्हें जन्म लेते ही बंदूक थमा दी गयी हैं अथवा वो मस्तिष्क जो अपने स्वार्थ के लिये आतंक की फैक्ट्री चलाते हैं " स्वर अब तक कानों में गूंज रहे हैं अंग्रेजी में दिये हुये भाषण की विडिओ आपके लिये शिल्पी पटल पर प्रस्तुत है इसे देखें सुने और अनुभव करें तथा बतायें कि कोई इस वातावरण में जन्मदिवस पर उत्साहित कैसे हो सकता है..

आतंकवाद का दोषी कौन

9 comments:

  1. श्रीकांत जी जन्मदिवस शुभ हो। विचारणीय हैं आपकी प्रस्तुति।

    उत्तर देंहटाएं
  2. विचारोत्तेजक प्रस्तुति!

    उत्तर देंहटाएं
  3. SHRIKANT MISHRA JEE,AAPKO AAPKE
    JANMDIWAS PAR SHUBH KAAMNA AUR
    BADHAAEE.

    उत्तर देंहटाएं
  4. आप उत्साहित हों श्रीकांत जी समय बदलेगा। जन्मदिन शुभ हो।

    उत्तर देंहटाएं
  5. व्इडियो सोचने को मजबूर कर रहा है। जन्मदिन मुबारक श्रीकांत जी।

    उत्तर देंहटाएं
  6. जन्मदिन की शुभकामना। बहुत अच्छी प्रस्तुति।

    उत्तर देंहटाएं
  7. अग्रज प्राण शर्मा जी सुषमा दी और मा. श्री समीरलाल जी सहित आप सब मित्रों का स्नेह वर्षा के लिये हार्दिक आभार

    ईश्वर करे निधि जी की कामना और विश्वास के साथ आशा भरे दृष्टिकोण से यह विश्व शीघ्र ही शांति के सागर से अभिषेक कर सके.
    पुनश्च आभार सहित

    सादर सप्रेम ....

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Get widget