HeaderLarge

नवीनतम रचनाएं

6/recent/ticker-posts

बनाकर अपनी दुनिया को उसे बर्दाश्त भी करना [ग़ज़ल] - दीपक गुप्ता


बनाकर अपनी दुनिया को उसे बर्दाश्त भी करना
खुदा मेरे, मैं तेरे हौसले की दाद देता हूँ

परिंदे ने कहा तू कैद रख या कर रिहा मुझको
मैं अपनी ज़िन्दगी का हक़ तुझे, सैय्याद देता हूँ

मैं दुःख से घिर गया तो गैब से आवाज ये आयी
सुखों की छावं मैं अक्सर दुखों के बाद देता हूँ

तेरी यादों के पंछी जिस चमन में चहचहाते हैं
लहू से सींच कर उसको वफ़ा की खाद देता हूँ

एक टिप्पणी भेजें

9 टिप्पणियाँ

  1. बनाकर अपनी दुनिया को उसे बर्दाश्त भी करना
    खुदा मेरे, मैं तेरे हौसले की दाद देता हूँ

    बहुत सुन्दर

    जवाब देंहटाएं
  2. तेरी यादों के पंछी जिस चमन में चहचहाते हैं
    लहू से सींच कर उसको वफ़ा की खाद देता हूँ
    बहुत अच्छी ग़ज़ल।

    जवाब देंहटाएं
  3. हर शेर उम्दा और उत्कृष्ट।

    जवाब देंहटाएं
  4. bahut sunder apka baht baht dhanywad deepak ji ati sunder jai siya ram

    जवाब देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

आइये कारवां बनायें...

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...