दुष्यन्त कुमार स्मारक पाण्डुलिपि संग्रहालय भोपाल द्वारा युवा सृजनात्मकता को प्रोत्साहन के लिए राष्ट्रीय हिमाक्षरा साहित्य परिषद के सहयोग से अखिल भारतीय स्तर पर एक ग़ज़ल लेखन प्रतियोगिता का आयोजित किया गया। इस प्रतियोगिता में देश भर से युवा शायरों ने भाग लिया| इसके संयोजक श्री इसरार कुरैशी ‘गुणेश थे’।
प्रतियोगिता के पहले पुरस्कार के लिए पठानकोट के जतिन्दर परवाज़ को पुरस्कृत किया गया। दूसरा दमोह के ताबीश नैय्यर तथा जबलपुर की अमिता श्रीवास्तव ‘तमन्ना’ को तीसरे स्थान के लिए पुरस्कृत किया गया। साथ ही हरदा के मंसूर अली "मंसूर" को सांत्वना पुरस्कार दिया गया।
29 एवं 30 दिसम्बर को भारत भवन में दुष्यन्त कुमार स्मारक पाण्डुलिपि संग्रहालय के स्थापना उत्सव के अवसर पर आयोजित एक भव्य "पुरस्कार वितरण समारोह" में मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री एवं सांसद श्री कैलाश जोशी ने अपने कर-कमलों से इन पुरस्कारों का वितरण किया। इस अवसर पर संग्रहालय के प्रयासों की प्रशंसा करते हुए उन्होंने आज के दौर में बढ़ती व्यावसायिक प्रवृत्ति पर गहरी चिन्ता व्यक्त की और संग्रहालय के दस्तावेज़ीकरण के काम को अनुकरणीय माना।
विशिष्ट अतिथि के रूप में उपस्थित भारतीय स्टेट बैंक भोपाल वृत्त के मुख्य महाप्रबंधक श्री एम.भगवन्त राव ने अपने उद्बोधन में संग्रहालय के विविध प्रयत्नों को रेखांकित करते हुए समाज के प्रति अपनी प्रतिबद्धता दोहराई। बतौर विशिष्ट अतिथि स्व. दुष्यन्त कुमार की जीवन-संगिनी श्रीमती राजेश्वरी दुष्यन्त कुमार भी उपस्थित थीं।


प्रेषक:
संगीता राजुरकर (सहायक निदेशक)
दुष्यन्त कुमार स्मारक पाण्डुलिपि संग्रहालय
एफ-50/17, दक्षिण तात्या टोपे नगर
शरद जोशी मार्ग, भोपाल-462003

2 comments:

  1. बहुत बहुत धन्यवाद इस जानकारी के लिये।

    जवाब देंहटाएं
  2. Dr Brahmanand jaalap23 मई 2019 को 6:45 am

    इस जानकारी कें लिए बहुत‌ बहुत धन्यवाद .
    मुझे अपनी गज़ले प्रकाशित करनी हैं कैसैं करें‌ .

    जवाब देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Get widget