HeaderLarge

नवीनतम रचनाएं

6/recent/ticker-posts

महाकवि नीरज से एक संक्षिप्त वार्ता: देवेश वशिष्ठ खबरी

हिन्दी साहित्य में एक युग-पुरुष बन चुके नीरज जी का आज जन्मदिन है। इसी शुभ अवसर पर साहित्य शिल्पी की नई साइट की विधिवत शुरुआत की जा रही है। इस मौके पर हमारे साथी देवेश वशिष्ठ ने नीरज जी से दूरभाष पर बातचीत की। इस दौरान साहित्य शिल्पी को आशीर्वाद स्वरूप उन्होंने कहा:

मस्तक पर आकाश उठाए, धरती बाँधे पाँव से
तुम निकलो जिस गाँव से, सूरज निकले उस गाँव से



आज से साहित्य शिल्पी पर प्रकाशित नवीनतम रचनाएं हमारी नई वेबसाइट http://www.sahityashilpi.in/ पर उपलब्ध होंगीं।

टिप्पणी पोस्ट करें

4 टिप्पणियां

  1. शतायु हो यह साहित्य का शलाका पुरुष और आपको भी आभार इस आयोजन पर

    जवाब देंहटाएं
  2. साहित्यशिल्पी की इस नये रूप के लिए हार्दिक बधाई..और एक महान कवि के आशीर्वाद को लेकर आज के दिन इसकी शुरुआत करना भी एक सुंदर भाव का संकेतक है..राजीव जी हिन्दी के इस विकास यात्रा के लिए सारे भारतवासी को आप पर गर्व है...बधाई हो..

    राजीव जी एवं साहित्यशिल्पी के सभी सहयोगी गणजनों को सभी हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएँ!!

    जवाब देंहटाएं
  3. साहित्य शिल्पी को नए संस्करण के लिए बधाई |

    नीरजी को नमन | उनका आशीर्वाद हमें मिलाता रहे , ऐसी मंगल कामना |

    अवनीश तिवारी

    जवाब देंहटाएं
  4. Mahakavi MNeraj ji ke sanvaad goshti se roushan rahein ho rahi hai. Sahitya shilpi ke manch aur sur staff ko is safak aur sarthak sanyojan ke liye badhayi

    जवाब देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

आइये कारवां बनायें...

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...