HeaderLarge

नवीनतम रचनाएं

6/recent/ticker-posts

हिन्दी साहित्य का आदिकाल - अजय यादव

Ajay_kavi हिन्दी साहित्य के इतिहास की प्रथम अवस्था को विभिन्न विद्वानों ने अलग-अलग नाम दिये हैंजार्ज ग्रियर्सन इसे चारणकाल कहते हैं तो मिश्रबंधु प्रारम्भिक काल; आचार्य रामचन्द्र शुक्ल ने इसे वीरगाथाकाल कहा तो आचार्य हजारी प्रसाद द्विवेदी ने आदिकाल; राहुल सांकृत्यायन ने सिद्ध-सामंतकाल माना तो डा० रामकुमार वर्मा ने इसे दो भागों संधिकाल और चारणकाल में विभाजित कर दिया। यहाँ यह बात भी ध्यान देने योग्य है कि हिन्दी साहित्य के प्रथम लेखक माने जाने वाले जार्ज ग्रियर्सन, मिश्रबंधुओं, राहुल सांकृत्यायन, डा० रामकुमार वर्मा आदि जहाँ हिन्दी साहित्य का आरंभ सातवीं-आठवीं शताब्दी से मानकर इसमें परवर्ती अपभ्रंश (अथवा अवहट्ठ) की रचनाओं को भी शामिल कर लेते हैं वहीं आचार्य रामचन्द्र शुक्ल, आचार्य हजारी प्रसाद द्विवेदी आदि विद्वान हिन्दी साहित्य का आरंभ १००० ई० के आसपास से मानते हैं। अब अधिकांश आधुनिक विद्वान आचार्य हजारी प्रसाद द्विवेदी द्वारा प्रदत्त नाम आदिकाल और उनके काल-विभाजन को ही सर्वाधिक उपयुक्त मानने लगे हैं।  

 

पूरा पढ़ें...

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां

आइये कारवां बनायें...

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...