HeaderLarge

नवीनतम रचनाएं

6/recent/ticker-posts

भू-नभ सीता-राम हैं [दोहे] - आचार्य संजीव वर्मा "सलिल"


भू-नभ सीता-राम हैं, दूरी जलधि अपार.
कहाँ पवनसुत जो करें, पल में अंतर पार..

चंदा वरकर चाँदनी, हुई सुहागिन नार.
भू मैके आ विरह सह, पड़ी पीत-बीमार..

दीपावली मना रहा, जग- जलता है दीप.
श्री-प्रकाश आशीष पा, मन मणि मुक्ता सीप..

जिनके चरण पखार कर, जग हो जाता धन्य.
वे महेश तुझ पर सदय,'सलिल' न उन सा अन्य..

दो वेदों सम पंक्ति दो, चतुश्वर्ण पग चार.
निशि-दिन सी चौबिस कला, दोहा रस की धार..

नर का क्या, जड़ मर गया, ज्यों तोडी मर्याद.
नारी बिन जीवन 'सलिल', निरुद्देश्य फ़रियाद..

खरे-खरे प्रतिमान रच, जी पायें सौ वर्ष. .
जीवन बगिया में खिलें, पुष्प सफलता-हर्ष..

चित्र गुप्त जिसका सकें, उसे 'सलिल' पहचान.
काया-स्थित ब्रम्ह ही, कर्म देव भगवान.

टिप्पणी पोस्ट करें

5 टिप्पणियां

  1. nice. Sahityashilpi is a good E-Magazine.

    -Alok Kataria

    जवाब देंहटाएं
  2. साहित्य शिल्पी किसी भी माध्यम में चले हम पाठकों को इससे फर्क नहीं पडता है बस इसे चलते रहने दीजिये। आचार्य संजीव जी के दोहे बहुत अच्छे लगे।

    जवाब देंहटाएं
  3. साहित्य शिल्पी के फिर से आरंभ होने की सूचना से खुशी हुई

    जवाब देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

आइये कारवां बनायें...

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...