HeaderLarge

नवीनतम रचनाएं

6/recent/ticker-posts

एक नवगीतिका -डॉ. वेद व्यथित


ओस की बूंदों में भीगे हैं पत्ते कलियाँ फूल सभी
प्यार के छींटे मार गया है जैसे कोई अभी अभी

अलसाये से नयन अभी भी ख्वाबों में खोये से हैं
बेशक आँख खुली है फिर भी टूटा कब है ख्वाब अभी

दिन कितने अच्छे होते थे रातें खूब उजली थीं
पर लगता है जैसे गुजरी हंसों की सी पांत अभी

कितनी सारी बातें बरगद की छाया में होतीं थीं
उन में से शायद ही होंगी तुम को कोई याद अभी

खेल खेलते खूब रूठना तुम को कितना आता था
फिर कैसे था तुम्हे मनाता क्या ये भी है याद अभी

कैसे भूलों वे सब बातें बहुत बहुत कोशिश की है
पर मुझ को वे कहाँ भूलतीं सब की सब हैं याद अभी

एक टिप्पणी भेजें

3 टिप्पणियाँ

  1. खेल खेलते खूब रूठना तुम को कितना आता था
    फिर कैसे था तुम्हे मनाता क्या ये भी है याद अभी

    कैसे भूलों वे सब बातें बहुत बहुत कोशिश की है
    पर मुझ को वे कहाँ भूलतीं सब की सब हैं याद अभी

    डॉ. साहब, बहुत सुन्दर सुन्दर पंक्तियाँ रच दी हैं, बधाई स्वीकार करें।

    जवाब देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

आइये कारवां बनायें...

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...