वो चल रही थी पर उसका मन भाग रहा था .धीरे धीरे उसने गति बढा दी वो लगभग दौड़ने लगी थी शायद वो अपने मन से आगे निकल जाना चाहती थी उसकी साँस फूलने लगी पसीने की चन्द बूंदें उस के माथे पर चमकने लगी पर फिर भी वो रुकी नहीं पता नहीं वो खुद से भाग रही थी या कुछ आवाजों से ................

जब से वो अर्डमोर आई थी उस ने सुबह टहलने का नियम सा बना लिया था अपने घर से निकल कर वालमार्ट (America ki ek badi dukan )तक अपने आई पौड़ पर गाने सुनते हुए जाना उस को बहुत अच्छा लगता था .सूरज का पीला प्रकाश जब उस के बदन को छूता था तो एक अजीब सी उर्जा वो अपने में महसूस करती थी. सूरज के निकलने के साथ ही चिड़ियों का चहचहाना भी बढ़ जाता ऐसा लगता मानो सूर्य कि मध्यम किरणों ने उनको हलके से सहला के जगा दिया हो .जैसे उसकी माँ जगाती थी प्रकृति से उस को प्रारंभ से ही प्यार था पर जब से अमेरिका आई थी पढाई और उसके बाद नौकरी की तलाश में उस को कभी फुर्सत ही नहीं मिली .साइंटिस्ट के पद पर जब से वो यहाँ आई है वो मौसम से रोज मिलती है हवा उसके बाल सहलाती है चिड़ियाँ गीत सुनती है और पेड़ों से झड़े फूल और पत्तियां शबनम में नहा के उस के आने की राह देखते हैं .

जब उसे लगा कि अब वो नहीं दौड़ पायेगी तो पार्क में लगी एक बेंच पर बैठ गई .वो पूरा पसीने से भीग चुकी थी उसने जींस से रुमाल निकाली धानी रंग के इस रुमाल के कोने में बहुत सुंदर फूल बना था उसने फूल पर हाथ फेरा माँ ने कितने प्यार से इसको काढ़ा था पर आज के दिन उसको न कुछ सोचने का मन कर रहा था और न ही मौसम का कोई भी रंग आकर्षित कर रहा था ......... .अभी दो दिन पहले वो कितनी खुश थी शुक्रवार की रात से ही समय मानो कट ही नहीं रहा था इंतजार का समय बहुत भारी होता है शायद इसी लिए बहुत धीरे बीतता है ,लैब से आने के बाद से ही वो कामों में लगी थी धुले कपडे पहाड़ की तरह अचल खड़े थे ,उसकी अलमारी उस को मुह चिढ़ा रही थी और बेसिन में बर्तन बातें कर रहे थे. फिर अभी खाना भी बनाना था .उस के हाथ मशीनवत चल रहे थे ,कपडे तह कर के रखते और अलमारी सही करते करते रात के १२ बज गए थे ,अभी बर्तन धुलना बाकी थी वो डिश वाशर में बर्तन कम ही धुलती थी पर आज वो बहुत थक गई थी और उस को भूख भी लग गई थी अतः उसने बर्तन डिशवासर में डाल दिया .और खुद मैगी खा के बिस्तर पर आ गई .पर नींद मानो आँखों में आने से इंकार कर रही थी मन भी कहाँ शांत था बस शारीर ही थकन का जमा नहीं उतार पा रहा था .ये सब बैचेनी उस को इस लिए थी की कल माँ आ रही थी .पाँच साल पहले जब वो यहाँ आ रही थी माँ उस को गले लगा कितना रोयीं थी उनकी वो हलकी गुलाबी साड़ी और उस पर बने नीले फ़ूल आज भी उसकी आँखों की खिड़की में टंगे थे.माँ को गहरे रंग बहुत पसंद थे पर पिता जी की मौत के बाद माँ ने चटकीले रंगों में सफ़ेद रंग मिला उनको हल्का कर लिया था और अब यही हलके रंग इनकी अलमारी में सिसकते हुए समां गए थे..उस दिन से पहले घर में सब कुछ ठीक था .माँ सुबह घर में संस्कार बोती.खिड़कियाँ खोल पिली नर्म धूप को आमंत्रित करती जब तक मै और पापा उठते घर बातें कर रहा होता और उस के कोने कोने में पवित्रता आसन लिए बैठी होती .मै जब प्रशाद के लिए हाथ बढाती मेरे हाथों पर एक हलकी चपत लगते "कहती पहले मुंह तो साफ कर ले".माँ के हाथों में जादू था जो भी बनाती बहुत स्वादिष्ट बनाती .मैने कभी कभी माँ को पापा से नाराज भी देखा था पर कारण क्या होता पता न चलता कुछ घंटों में ही वो दोनो फिर घुल मिल कर बातें करने लगते पर उस दिन ......"सताक्षी देख तेरे पिता जी को क्या हुआ है माँ चीख रही थी मै भाग के उनके पास पहुंची तो पापा अजीब अजीब सांसे ले रहे थे माँ बदहवासी की हालत में पड़ोस के हिमांशु अंकल को बुलाने भागी .मैने पापा को सीधा किया उनके मुह से झाग निकल रहा था वो कुछ कहना चाहते थे .पर आवाज कुछ साफ नहीं थी वो बार बार बोलने की कोशिश कर रहे थे इतने में माँ आ गईं साथ में हिमांशु अंकल भी थे मयंक आप घबराइए नहीं सब ठीक हो जायेगा माँ ने कहा और आंचल से उनका मुंह पोछने लगीं कितनी बार कहा की शराब न पियें पर मेरी सुनता कौन है माँ बडबड़ाती जा रहीं थी और रोती जा रहीं थी हिमांशु अंकल की सहायता से उन्होंने पापा को कार में लिटाया पापा बार बार मेरा हाथ पकड़ रहे थे कार में लेटते समय उन्होंने जिस निराश निगाह से मुझे देखा आज भी वो निगाहें मेरे मन में गडी हुई सी महसूस होती हैं .माँ लौटी तो सब कुछ ख़त्म हो चुका था.अब न घर बातें करता था ,न सूरज घर आता था और न ही संस्कार घर में दिखते थे बस घायल आवाज और सन्नाटे की फुसफुसाहट पसरी रहती . ये सब सोचते सोचते वो कब सो गई पता ही न चला .उस कि नींद खुली तो ७ बज चुके थे माँ को लेने हवाई अड्डा जाना था .आर्डमोर से वहां पहुँचने में करीब १ घंटा ४० मिनट लगते हैं अब क्या करूँ सताक्षी सोच रही थी क्योंकि प्लेन ९.०० बजे आने वाला था .मरी नींद का क्या करूँ इसका अपनी आप को कोसते हुए सताक्क्षी जल्दी जल्दी तैयार होने लगी .जब तक वो घर से निकली ७ ३० हो चुके थे .अभी माँ के लिए फूल भी लेने थे जल्दी ही कार हवा से बातें करने लगी लाल गुलाब ले के जब कार .हाईवे पर पहुंची ८ बज चुके थे .गति सीमा ७० कि थी तो सताक्क्षी ने स्पीड सेट कर गाड़ी क्रूस पर डाल दी .

पिता जी के जाने के बाद रिश्तेदारों ने एक एक कर नाता तोड़ लिया .माँ को कुछ भी देने से इंकार कर दिया .माँ सुबह बाहर जाती और जब लौटती मायूसी की गहरी रेखा उस के माथे पर दिखती .परिवार में लोग माँ पर तरह तरह के लांछन लगाते.मुझे ज्यादा समझ में नहीं आता पर जितना आता बुरा बहुत लगता .पापा की जगह माँ को काम मिल गयाथा .अँधेरे में दिए की रौशनी ही बहुत होती है दिन भर काम करने के बाद माँ मुझे भी खुश रखने की कोशिश करती .बहारों का मौसम जब मुझपर आने लगा लोगों की गिद्धी नजर मुझको छेड़ने लगीं माँ को अब मेरी चिंता रहने लगी थी उस दिन तो हद ही हो गई जब मेरे चचेरे भाई ने मुझे दबोचने की कोशिश की माँ ने चाचा चाची से शिकायत कि पर चाची ने माँ को उल्टा सीधा कहना शुरू कर दिया और मुझे भी ताने देने लगी चाची ने कहा क्या करेगी पेड़ में फल लगेगा तो पत्थर तो उछलेंगे ही .कई दिन सोचने के बाद माँ ने मुझे यहां अमेरिका पढने भेज दिया .

तेज होर्न से उसकी निद्रा टूटी तो देखा लाल बत्ती हरी हो चुकी थी.उसने जल्दी से गाड़ी आगे बढा दी . उसकी निगाह बगल की सीट पर रखे फूलों के गुलदस्ते पर पड़ी जिसमे सुर्ख गुलाब मुस्कुरा राहे थे.उसने एक बार फूलों को ऐसे सहलाया जैसे माँ उसके माथे को सहलाती थी. .पास रखी पानी की बोतल को उठा कर उसने मुंह से लगा लिया और सारा पानी एक साँस में पी गई ..आज डैलस में गर्मी कुछ ज्यादा ही थी उस ने ऐ सी बढा दिया.

जब वो एयर पोर्ट पहुंची तो ९ बज के २० मिनट हो चुके थे. कार पार्क कर के वो जल्दी से अंदर भागी. वहां देखा तो फलाइट ९०१ ,३० मिनट लेट थी .उफ्फ्फ .............उसने चैन की साँस ली .पेट में उठती भूख की लहरों का अभी ध्यान आया ,सुबह से एयर पोर्ट पहुँचने की जदोजहद में उसे कुछ खाने का समय ही नहीं मिला .समय बिताने के लिए और अपनी जठराग्नि को शान्त करने के लिए उसने कौफी ली और धीरे धीरे उनकी चुस्कियां लेने लगी .कौफी के एक एक घूंट में मनो वो एक एक पल पी रही थी .तभी अनाउंस हुआ की फ़्लैट नंबर ९०१ आने को है दिल की घडकन बहुत तेज होने लगी थी करीब २० मिनट बाद माँ आती दिखी माँ ने आज भी वही नीले बूटों वाली पिंक साड़ी पहनी हुई थी सताक्क्षी दौड़ के माँ से लिपट गई .माँ को कस के इस तरह पकडे थी कहीं फिर माँ चली न जाएँ .माँ आप का सामान कहाँ है " सुधांशु अंकल ला रहे हैं क्या???.......वो भी आयें है तुम ने बताया नहीं ."अरे बेटा लास्ट समय में उनका प्रोग्राम बना .ऑफिस के काम से उनको न्यू योर्क जाना है २ दिन बाद चले जायेंगे ". इतने में अंकल सामान लेके आ गये ."हेल्लो अंकल कैसे हैं?" .संक्षिप्त सा औपचारिक प्रश्न किया था सताक्क्षी ने ."ठीक हूँ बेटा "अंकल ने मुस्कुरा के कहा आप तो बहुत बड़ी हो गईं है ". सताक्षी. ने कोई उत्तर नहीं दिया .

" माँ मेरे कठहल का अंचार ,सिरका और अमावट लाई हो ना

"सब लाई हूँ बेटा पर सब यहीं पूछ लोगी या घर भी ले चलेगी " औ मम्मी कह के वो फिर से माँ से लिपट गई .

"इतनी बड़ी हो गई पर बचपना नहीं गया ".कह कर माँ ने सताक्षी के सर पर हलकी सी चपत लगाई.

आर्डमोर के रास्ते में माँ उसको पूरे मोहल्ले का हाल बताती रही .कुछ लोगों को तो वो जानती भी नहीं थी फिर भी सुनती रही माँ का बोलना उस को बहुत अच्छा लग रहा था पाँच साल वो इस आवाज के बिना वो कैसे रही ??घर में घुसते ही माँ ने कहा "अरे सत तुने घर तो बहुत अच्छा रखा है साफ सुथरा .याद है अपने घर में कितना सामान फैलाया करती थी ".

सताक्षी को हसी आ गई बीता शुक्रवार याद आ गया. बातचीत में कब २ बज गया पता न चला

"माँ कुछ खाओगी "

"नहीं बेटा कुछ नहीं अब बस आराम करना चाहती हूँ और तुम्हारे अंकल भी यही चाहते हैं ".पर सताक्क्षी को भूख लगी थी उस ने अपने लिए सेंविच बनाया खा के अंकल का बिस्तर लिविंग रूम में लगा दिया और खुद वो माँ को लेके बेड रूम में आगई .माँ के कमर में हाथ दाल वो माँ के साथ लेट है सताक्षी माँ के साथ हमेशा ऐसे ही सोती थी .

"माँ तुम्हारे आने से आज हर शय बातें कर रही है देखो ये तकिया बता रहा है की तुम को याद कर कभी कभी मैने इस को कितना भिगोया है .और वो देखो ना माँ मेज पर तुम्हारी तस्वीर कह रही है की इस को सीने से लगा के कितनी रातें जागी हूँ मै और प्यारी कर कर के इस को कितना तंग किया है .मेज के सामने लगे इस बड़े पेपर को देखो ये कह रहा है कि "मै तो आप के नाम से भरा हूँ "जितनी बार तुम्हारी याद आती थी मै इस पर लिखती थी माँ .माँ मेरी अच्छी माँ ............

रात खाने की मेज पर माँ ने उसकी पसंद की सभी चीजें परोसी थी .जिनमे भारत से लाया कटहल का अचार भी शामिल था ."वाह !क्या स्वाद है मेरी भूख तो आज शांत हुई" .

"हाँ बेटा सच कहा तुम्हारी माँ बहुत अच्छा खाना बनती है अंकल ने माँ की तरफ देख के कहा ".

."यदि खाना इतना अच्छा लगा है तो बेटा एक रोटी और लो न ".

"अरे नहीं मैने तो ३ रोटी खा ली है एक कौर और खाया तो फट जाउंगी ."

"अरे कोई बात नहीं मै सिल दूंगी तू खा ' सभी हसने लगे बर्तन समेत माँ धुलने लगी

"अरे नहीं माँ मै डिश वाशर में डालती हूँ .मैने सारे बर्तन डिशवाशर में डाल के नोब घुमा दिया .मशीन ने अपना काम शुरू कर दिया .

"अरे सत वह ये तो कमल की मशीन है .क्या सब बर्तन साफ हो जायेंगे "

"जी माँ आप स्वयं देख लीजियेगा "

भारत और अमेरिका बीच के समय अन्तर के चक्कर में माँ और अंकल को बहुत नींद आ रही थी .अतः सभी ने अपना अपना सोने का ठिकाना पकड़ लिया .थोड़ी हो देर में दोनों सो गए .सताक्षी को नीद नहीं आ रही थी .थोडा सफाई कर के और लैब का कुछ अधुरा काम ख़त्म कर जब सताक्षी सोने आई तो रात के १२ बज रहे थे .माँ बहुत गहरी नींद में सो रहीं थी .ऐसा लग रहा था की नींद उनको आगोश में ले के खुद सो गई है .माँ को देखते देखते वो भी सो गई .सुबह करीब चार बजे माँ और अंकल के हँसने की आवाज से उस की नींद टूटी .माँ कह रहीं थी अजी थोडा धीरे हंसिये सताक्षी उठ जाय़ेगी.

क्या कहती हो मन वो नहीं उठेगी गहरी नींद में हैं

माँ के लिए मन सम्बोधन सुन कर सताक्क्षी को बहुत बुरा क्योंकि पापा माँ को प्यार से मन बुलाते थे .माँ का नाम मन्जरी जो था फिर अचानक अंकल के मुहँ से मयंक अपने पापा का नाम सुन कर वो ध्यान से उनकी बातें सुनने लगी अंकल बोले कह रहे थे उस दिन यदि मयंक की शराब में हम ने जहर ................सताक्षी को लगा की एक साथ लाखों बिच्छुओं ने उस को डंक मारा हो .

बेंच पर बैठी सताक्षी अपने बिखरे वजूद को समेटने की कोशिश कर रही थी इधर शब्द और घटनाये एक दूसरे से तारतम्य बैठाने की कोशिश कर रहे थे और उधर सताक्षी पतझर के बाद झड़ी पत्तियों सा असहाय महसूस कर रही थी . पापा के जाने के बाद उसको नहीं लगा पर आज वो खुद को अकेला और अनाथ महसूस कर रही थी वो बार बार यही कह रही थी माँ तुम.......... क्यों माँ क्यों ? उसने आंसुओं को टी शर्ट की आस्तीन में सुखाया और माँ के लिए न्यू योर्क का टिकट खरीदने का निश्चय कर वो उठ कर चल दी उसने मुड कर देखा बेंच पर धानी रुमाल पड़ा था

9 comments:

  1. रचना जी बडी ही प्यारी कहानी है

    जवाब देंहटाएं
  2. aap sabhi ka hridya se dhnyavad
    aap ke shabd mere liye bahut mayne rakhte hain .
    rachana

    जवाब देंहटाएं
  3. AANKHEN BHIG GAIN
    SUNDER KAHANI
    SONALI

    जवाब देंहटाएं
  4. BAHUT ACHCHI KAHANI HAI. bADHAI RACHNA JI. ISKI AGLI KADI KA INTZAR HAI.

    जवाब देंहटाएं
  5. Rachana di....Love this story ...Very rational and touchy.
    Ruchi

    जवाब देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Get widget