HeaderLarge

नवीनतम रचनाएं

6/recent/ticker-posts

मुश्किलों में भी ऐ यारो मुस्कुराते ही रहे [ग़ज़ल] - तेजेन्द्र शर्मा


मुश्किलों में भी ऐ यारो मुस्कुराते ही रहे
इस तरह हम ज़िन्दगानी को लुभाते ही रहे।

ऐ मेरी किस्मत जो चाहा तूने वो हमने किया
हर तमन्ना ज़िन्दगी भर हम दबाते ही रहे।

मुफ़िलसी का साथ था और ग़म मेरे हमराज़ थे
फिर भी ख़ुशियों के तराने गुनगुनाते ही रहे।

हर तरफ़ छाया अंधेरा, ज़िन्दगानी में मगर
फिर भी हिम्मत के दिये हम नित जलाते ही रहे।

जेब थी ख़ाली मगर दिल में उमंगें थीं हज़ार
ख़्वाब की ताबीर मेहनत से सजाते ही रहे।

फिर मिले वो प्यार का जिसने नशा हमको दिया
उस नशे में आजतक हम डगमगाते ही रहे।

जब बहार आई चमन में फूल सुन्दर से खिले
हम उन्हीं फूलों से जीवन को सजाते ही रहे।

ज़िन्दगी भर जो ज़माने से मिला हमने लिया
फिर भी जब मौक़ा मिला सबको हंसाते ही रहे।

हमको शिकवा था किसी से, ना ही था कोई गिला
वक्त जैसा बीता वैसा हम बिताते ही रहे।

टिप्पणी पोस्ट करें

6 टिप्पणियां

  1. फिर मिले वो प्यार का जिसने नशा हमको दिया
    उस नशे में आजतक हम डगमगाते ही रहे।

    जब बहार आई चमन में फूल सुन्दर से खिले
    हम उन्हीं फूलों से जीवन को सजाते ही रहे।

    ग़ज़ल बेहतरीन है

    जवाब देंहटाएं
  2. Ghazal pasaNd aai khayalat tou behtareen hayeN hi per dou bhashaoN ka ati sunder mishran lajawaab haye. Urdu Hindi donoN ki chalti phirti yani aam faham shabdawali hae jo dil meN utar jati hai.
    Ghzalkar ko badhai.Unki aur ghazleN bhi padhna pasand karuNgi.

    zakia aazmi

    जवाब देंहटाएं
  3. ज़किया जी से सहमत हूँ। तेजेन्द्र जी की और भी गज़ले पढने की इच्छा है।

    जवाब देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

आइये कारवां बनायें...

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...