HeaderLarge

नवीनतम रचनाएं

6/recent/ticker-posts

माँ दुर्गा के सिद्ध मंत्र [नवरात्रि विशेष]


नमो देव्यै महादेव्यै शिवायै सततं नम:
नम: प्रकृत्यै भद्रायै नियता: प्रणता: स्म ताम्।

----------

या देवी सर्वभूतेषु लक्ष्मीरूपेण संस्थिता
नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:।

----------

या देवी सर्वभूतेषु बुद्धिरूपेण संस्थिता
नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:।

----------

या देवी सर्वभूतेषु मातृरूपेण संस्थिता
नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:।

----------

जयंती मंग्ला काली, भद्रकाली कपालिनी
दुर्गा क्षमा शिवा धात्रि स्वाहा स्वधा नमोस्तुते।

----------

देहि सौभाग्यमारोग्यं देहि मे परमं सुखम्
रूपं देहि जयं देहि यशो देहि द्विषो जहि।

---------

सर्वमंग्लमांग्ल्यै शिवे सर्वार्थसाधिके
शरण्ये त्र्यंबिके गौरि नारायणि नमोस्तुते।

----------

सर्वबाधाविनिर्मुक्तो धनधान्यसुतान्वित:
मनुष्यौ मत्प्रसादेन, भविष्यति न संशय:।

----------

शरणागतदीनार्तपरित्राणपरायणे
सर्वस्यार्तिहरे देवि नारायणि नमोस्तुते।

----------

सर्वाबाधाप्रशमनं त्रैलोक्यस्याखिलेश्वरि
एवमेव त्वया कार्यमस्मद्वैरिविनाशनम।

टिप्पणी पोस्ट करें

4 टिप्पणियां

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

आइये कारवां बनायें...

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...