HeaderLarge

नवीनतम रचनाएं

6/recent/ticker-posts

माँ दुर्गा [नवरात्रि पर विशेष] - लावण्या शाह

सजा आरती सात सुहागिन, तेरे दर्शन को आतीं ,
माता तेरी पूजा, अर्चना कर, भक्ति निर्मल पातीं!
दीपक, कुम - कुम अक्षत ले कर, तेरी महिमा गातीं,
माँ दुर्गा तेरे दरसन कर के, वर , सुहाग का पातीं!
वह तेरी महिमा शीश नवां कर गातीं!
हाथ जुडा कर बाल नवातीं, धीरे से हैं गातीं,
"माँ! मेरा बालक भी तेरा" ~~~
ऐसा तुझको हैं समझातीं,
फिर फिर तेरी महिमा गातीं ~~
तेरी रचना, भू -मंडल है!
ऐसे गीत गरबे में गातीं
माता! तुझसे कितनी सौगातें,
भीख मांग ले जातीं!!
माँ! सजा आरती, सात सुहागिन,
तेरे दर्शन को आतीं,
मंदिर जा कर शीश नवाकर,
ये तेरी महिमा गातीं!

टिप्पणी पोस्ट करें

5 टिप्पणियां

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

आइये कारवां बनायें...

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...