एक आदि प्रवत्ति प्रतिशोध को रोक देती है
मेरे सीने पर खून सने छोटे छोटे पदचिन्हों
को छिड़काते हुए, अपने आपको खोलता हूँ
और स्वयं को स्वीकार कर लेता हूँ

बेहद दर्द का गुन्ठित गुस्सा परिसर के लिये क्यों?
काली सिकुड़ी हुई टाँगों के द्वारा अतिक्र्रमणकारी
ज्ञान का उत्कृष्ठ निषेचन क्यों? एक हरी तरूणाई
जंजीरों में इन्तज़ार कर रही थी

विष के घूँट पीने के बाद रुँधा हुआ गला,
मृत्यु के गाल पर चढ़ता हुआ आरोही पक्षाघात
अब धूल आँसुओं के दरिया को अलविदा कहेगी

जंजीर के दन्तुरों पर मेरा अन्त नहीं होगा
एक कैमोमिल पुष्प मृत्यु-प्याले के दागों को धो देगा

1 comments:

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Get widget