HeaderLarge

नवीनतम रचनाएं

6/recent/ticker-posts

दोपहर के अलसाये पल [कविता] - लावण्या शाह

तुम्हारी समंदर-सी गहरी आँखोँ में,
फेंकता पतवार मैं, उनींदी दोपहरी में -
उन जलते क्षणों में, मेरा ऐकाकीपन
और घना होकर, जल उठता है - डूबते माँझी की तरह -
लाल दहकती निशानियाँ, तुम्हारी खोई आँखों में,
जैसे दीप-स्तंभ के समीप, मंडराता जल!

मेरे दूर के सजन, तुम ने अँधेरा ही रखा
तुम्हारे हावभावों में उभरा यातनों का किनारा -
अलसाई दोपहरी में, मैं, फिर उदास जाल फेंकता हूँ -
उस दरिया में, जो तुम्हारे नैया से नयनों में कैद है!

रात के पँछी, पहले उगे तारों को, चोंच मारते हैं -
और वे, मेरी आत्मा की ही तरहा, और दहक उठते हैं!
रात, अपनी परछाईं की ग़्होडी पर रसवार दौडती है,
अपनी नीली फुनगी के रेशम - सी लकीरों को छोडती हुई!

बुझते चिरागों से उठता धुँआ
कह गया .. अफसाने, रात के
कि इन गलियोँ मेँ कोई ..
आ कर,... चला गया था ..
रात भी रुकने लगी थी,
सुन के मेरी दास्ताँ
चाँद भी थमने लगा था
देख कर दिल का धुँआ
बात वीराने मे की थी,
लजा कर दी थी सदा
आप भी आये नही थे,
दिल हुआ था आशनाँ..

रात की बातों का कोई गम नहीँ
दिल तो है प्यासा, कहें क्या,
आप से, ...अब ...हम भी तो
हैं हम नहीं!

टिप्पणी पोस्ट करें

3 टिप्पणियां

  1. बात वीराने मे की थी,
    लजा कर दी थी सदा
    आप भी आये नही थे,
    दिल हुआ था आशनाँ..

    रात की बातों का कोई गम नहीँ
    दिल तो है प्यासा, कहें क्या,
    आप से, ...अब ...हम भी तो
    हैं हम नहीं!

    sunder kavita
    saader
    rachana

    जवाब देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

आइये कारवां बनायें...

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...