HeaderLarge

नवीनतम रचनाएं

6/recent/ticker-posts

करते है लोग बगावत इक यहाँ हमारे आने से [ग़ज़ल] - दीपक 'बेदिल'


अच्छा तो हम चलते है तेरे इस शहर दीवाने से
करते है लोग बगावत इक यहाँ हमारे आने से

गुमनाम ओ पोशीदा इंसान जो जो हुए है यहाँ
वो मारे डर के नहीं निकला करते बूतखाने से

क्या बात हुई है जो करके आये हो आँखे लाल
ना लगता हमें की समझ जाओगे समझाने से

ये मुद्दा भी तेरा जिक्र भी तेरा करू हूँ दिल्ली
पहले ही उजाड़ देते है लोग घर को बसाने से

जितने पाक बदन और जितने काजी है यहाँ
सबसे कह दो की जरा दूर रहे उस दीवाने से

है बहुत नाराज हमसे और भला क्या कहिये
पर मान जावेंगे सुनो हो इक गले लगाने से

दीदा-ए-तर होकर भी झूठे ही रहोगे 'बेदिल'
भला किसको मिला है यकीन टेसुए बहाने से

एक टिप्पणी भेजें

5 टिप्पणियाँ

  1. है बहुत नाराज हमसे और भला क्या कहिये
    पर मान जावेंगे सुनो हो इक गले लगाने से


    क्या बात है....बहुत अच्छे.....

    आभार और
    बधाई आपको दीपक बेदिल जी...

    जवाब देंहटाएं
  2. दीदा-ए-तर होकर भी झूठे ही रहोगे 'बेदिल'
    भला किसको मिला है यकीन टेसुए बहाने से
    Bahut hi nayaab sher apni nageenedari se apni pehchaan bana raha hai
    daad ke saath

    जवाब देंहटाएं
  3. bhot bhot shukriya aapka..
    mitti k jarre ko aasmaan bana rahe ho
    miya khud hi mout ka samaan bana rahe ho

    sar jhukaaye hue

    deepak "bedil"

    जवाब देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

आइये कारवां बनायें...

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...